डिजिटाइजेशन से सभी को फायदा होगा- सुभाष चंद्रा

Tuesday, 27 February, 2018

समाचार4मीडिया.कॉम ब्यूरो

1 नवंबर, 2012 से डिजिटलीकरण की अंतिम तिथि के नजदीक आने से ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री बहुत ही तेजी से इस पर काम कर रही है। एस्सेल समूह के चेयरमैन सुभाष चंद्रा 23 अक्टूबर, 2012 को मुंबई में एक्सचेंज4मीडिया समूह के 9वें वार्षिक कॉन्क्लेव में संबोधित करते हुए बोल रहे थे। इस कॉन्क्लेव को जागरण समूह ने प्रायोजित किया था। चंद्रा ने कहा कि ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री में बहुत सारे इनोवेशन हुए हैं। उनके अनुसार, डिजिटाइजेशन से ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री के सभी पक्षों को फायदा होगा। इसमें ब्रॉडकास्टर्स, प्रोड्यूसर्स, कंज्यूमर्स, प्रोग्रामिंग से जुड़े लोग और अन्य शामिल हैं।

चंद्रा के अनुसार, ब्रॉडकास्टर्स और उपभेक्ता के बीच एक वर्टिकल संबंध है। उन्होंने आगे कहा, “वर्टिकल संबंध को हमारे द्वारा परिभाषित किया गया है और इनोवेशन से उपभोक्ताओं को कुछ नया मिलता है और उनसे वापस हम कुछ लेते हैं।”

डिजिटाइजेशन का सबसे बड़ा प्रभाव इसकी क्षमता है जो वर्टिकल संबंध को सर्कुलर संबंध में बदल देता है, जिसका ब्रॉकास्टर, उपभोक्ता, प्रोग्रामर्स, समाचार एकत्र करने वाले और अन्य लोगों पर व्यापक असर पड़ता है। डिजिटाइजेशन के बाद, एडवरटाइजिंग राजस्व की तुलना में। सब्सक्रिप्शन राजस्व में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी।

चंद्रा ने सोशल मीडिया के विकास और सर्कुलर रिलेशनशिप पर उपस्थित लोगों का ध्यान आकर्षित किया। उनके अनुसार, कंटेंट एक सोशल क्षेत्र है जो लोगों तक तेजी से अपनी पहुंच बना लेता है, जिससे इसके विकास में मदद मिलती है। इसके परिणामस्वरूप सोशल मीडिया के द्वारा लोग एक-दूसरे से तुरंत जुड़ जाते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि सर्कुलर रिलेशनशिप के माध्यम से एक व्यक्ति विचारों को पसंद और नापसंद कर सकता है और इसके अलावा अपने विचारों को भी वह प्रोग्रामर्स के सामने रख सकता है। इससे ब्रॉडकास्टर्स को यह समझने में आसानी होगी कि कहां उसे अपने कार्यक्रम में सुधार की आवश्यकता है। डिजिटाइजेशन की सहायता से लोग अपने कंटेंट को साझा कर सकते हैं, इसे ऑनलाइन देखने के साथ-साथ अपने विचारों को एक-दूसरे से साझा भी कर सकते हैं।

सेट टॉप बॉक्स के लाभों पर बताते हुए चंद्रा ने कहा, “सेट टॉप बॉक्स एक साधारण बक्सा है जो एनालॉग सिग्नल्स को डिजिटल सिग्नल में बदल देता है और इसका खर्च भी ज्यादा नहीं है। अगर आप अन्य एक्सट्रा सामग्री को जोड़ना चाहते हैं तो यह थोड़ा महंगा हो जाता है। इसके परिणास्वरूप निचले तबके के 25 से 30 प्रतिशत लोग जो टीवी देखते हैं, वो इसके खर्च के कारण इसका उपयोग नहीं कर पायेंगे। एडिशनल फीचर्स से प्रोग्रामर्स को यह पता होगा कि कितने लोग इस कार्यक्रम को किस समय देखते हैं। मुझे पीपल मीटर्स के बारे में ज्यादा पता नहीं है, लेकिन मैं सर्कुलर रिलेशनशिप की ओर देख रहा हूं।”

नोट: समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल एक्सचेंज4मीडिया का उपक्रम है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें samachar4media@exchange4media.com पर भेज सकते हैं या 09899147504/ 09911612929 पर संपर्क कर सकते हैं।



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com