'80 बरस के ‘नौजवान’ की कुछ खास बातों पर गौर फरमाएं

Monday, 28 May, 2018

हमने एक-दूसरे के लिए समय कम कर दिया। दूसरे के संकट के लिए पहले मात्र एक सूचना पर दौड़ते थेअपने नुकसान की चिंता नहींदूसरे की मदद एक ‘फिलॉसफी’ थी। यह एक संस्कृति थी। जो सबके लिए शुभ थी।’ अपने ब्लॉग 'डियर जिंदगी' के जरिए ये कहना है जी न्यूज के डिजिटल एडिटर दयाशंकर मिश्र का। उनका पूरा लेख आप यहां पढ़ सकते हैं-

डियर जिंदगी : ‘बड़ों’ की पाठशाला में तनाव

वह गांव में ही रहते हैं। शहर तभी आना होता हैजब कोई बहुत जरूरी चीज़ हो। उम्र 80 के पार है। सेहत उतनी तंदुरुस्‍त जिसके लिए हम रात-दिन नए-नए 'टोटकेकरते रहते हैं। सबसे कमाल की बात हैनजर से लेकर ‘शुगर’ तक सब उसी दायरे में हैजिसकी सलाह दी जाती है। हालांकि जिंदगी उनके लिए भी आसान नहीं है। बच्‍चे शहर में रहते हैंगांव में उन्‍हें अकेले ही रहना है। पत्‍नी कई बरस पहले साथ छोड़ गई हैं। आम का बगीचानदी का किनारा और साफ हवा उनके कुछ सच्‍चेअच्‍छे दोस्‍त हैं। मध्यप्रदेश के रीवा जिले के दूरस्‍थ गांव में रहने वाले वंशपति तिवारी जी ने पूरी उम्र एक सीधे सच्‍चे फलसफे पर गुजारी है, ‘हार नहीं मानना। जो कह दियाहर हाल में निभायातनाव को कभी अपने पास फटकने नहीं दिया।

कुछ समय पहले जब मैं आपसे मिलासंवाद का भरपूर समय मिला। मैंने पूछा, ‘आजकल लोग तनाव की बहुत बातें करते हैंलोग तनाव से होने वाली बीमारियों से घिरे रहते हैं। आप जब अपनी जिंदगी की शुरुआत कर रहे थेजिंदगी तब भी तो मुश्किल ही रही होगी। कैसे आप उस वक्‍त का सामना ऐसे कर पाएजब चीजें किसी भी कीमत पर थी ही नहीं। न्‍यूनतम साधानों से जिंदगी की पटकथा कैसे लिखी गई?'

तिवारी जी ने जो कुछ कहाउन सारी बातों को सूत्र में बांधकर आपके सामने रख रहा हूं। हम अपनी जिंदगी की सहूलियतों के अनुसार इन्‍हें अपनी जीवनशैली में शामिल कर काफी हद तक तनाव और डिप्रेशन जैसे खतरों से बच सकते हैं। जिंदगी हमेशा उतनी ही मुश्किल थीजैसे आज है। जिंदगी उतनी ही सरल हैजैसे कल थी। लेकिन हम चीजों का सामना सही तरीके से करने की जगह उसमें दुराग्रह और लालच को इतना मिक्‍स कर देते हैं कि आज से आगे कुछ देखने की हमारी क्षमता निरंतर कम होती जाती है। आइएइन 80 बरस के ‘नौजवान’ की कुछ खास बातों पर गौर फरमाएंशायद कोई रास्‍ता निकल सके...

1.  आज कहा जा रहा है कि ‘बड़ा’ तनाव है। लेकिन आज से साठसत्‍तर बरस पहले तो देश की परिस्थिति कहीं अधिक मुश्किल थी। जिनके पास धन थाउनको भी उतने ही संघर्ष से गुजरना होता था। मिसाल के लिए हर दिन लगभग पंद्रह से बीस किलोमीटर पैदल चलना होता था। तो इस तरह संघर्ष हमारी नियति था। इसका एक फायदा यह होता कि हम हर चीज़ के लिए प्राकृतिक तरीके से तैयार हो गए। हम हमेशा दौड़ने और लड़ने के लिए तैयार रहते थे। हम सूखेभुखमरी और बीमारी में अपना हौसला नहींखोते थे।

2.  सूखेभुखमरी और बीमारी से बढ़कर तो कोई तनाव नहीं हैआज। यह नहीं हैतो हमने ‘नकली’ तनाव के कारण पाल लिए हैं।

3.  हमने एक-दूसरे के लिए समय कम कर दिया। दूसरे के संकट के लिए पहले मात्र एक सूचना पर दौड़ते थेअपने नुकसान की चिंता नहींदूसरे की मदद एक ‘फिलॉसफी’ थी। यह एक संस्कृति थी। जो सबके लिए शुभ थी।  

4.  हम संकट की चिंता नहीं करते थेउसका मुकाबला करते थे। पैसे बहुत कम होने के बाद भी कम नहीं पड़ते थेक्‍योंकि उनका वितरण विवेक के आधार पर था। जिद और बच्‍चों की हर बात मानने के आधार पर नहीं।

5.  हम स्‍वयं की और बच्‍चों की क्षमता का सही मूल्‍यांकन करते थे। हमें पता था हर बच्‍चा सिकंदर नहीं है। इसलिए उसे उसके हिसाब से विकसित होने दिया।

6.  हम पैसे के कथित प्रबंधन और गणित में उलझने की जगह इतना ही ध्‍यान रखते थे कि कुछ पैसे परेशानी के समय के लिए बचे रहेंबस।

7.  बच्‍चों को छोटे से ही कुछ मुश्किल चीजों के लिए भी तैयार करें। जैसे अक्‍सर एसी में जाते हैं तो कभी कभी स्‍लीपर में भी जाएं। बच्‍चे को न कहना सीखेंउसकी हर मांग के सामने सरेंडर न करें।

8.  आगे की तरफ देखेंलेकिन आज का मज़ा किरकिरा न करें। खुलकर हंसें और खूब हंसें।  

9.  पति-पत्‍नी आज की तरह पहले भी खूब लड़ते थेलेकिन उसके बाद अगला दिन सामान्‍य हो जाता था। क्‍योंकि संकट इतने थे कि मुंह फुलाकर जिया नहीं जा सकता था। मन में कुछ रहता नहीं थाइसलिए मन कभी बीमार नहीं होता था।

10.          वेतन एकमात्र आय का साधन था। सवाल यह नहीं कि वह पर्याप्‍त था या नहींलेकिन हम उसमें निबाह करते थे। आप यह नहीं कह सकते कि क्रेडिट कार्ड और पर्सनल लोन जैसी चीजें नहीं थींक्‍योंकि साहूकार तो तब भी था। लेकिन हम उसकी ओर कभी नहीं गए। क्‍योंकि हम जानते थे कि कर्ज बीमारी की राह है। वह जीवन के सुख की राह में बांध बनाने जैसा है।

आशा हैदादा जी की पाठशाला के सुझाव जिंदगी को समझनेसुलझाने की दिशा में आपकी मदद करेंगे।

 

(साभार: हिंदी डिजिटल वेंचर 'जी न्यूज' )

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com