जब वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा पर किया BJP नेता के गुंडों ने हमला...

जब वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा पर किया BJP नेता के गुंडों ने हमला...

Thursday, 07 September, 2017

उनकी मंशा विपक्ष में होने तक दबी रही। अब फिर सत्ता में हैं तो फिर मुखर हो गई है। उनकी नींव में ही तानाशाही के पत्थर लगे हुए हैं। हिटलर और मुसोलिनी उनके आदर्श रहे हैं। वे लोकतंत्र के पक्षधर थे भी नहीं। वे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को समझते ही नहीं।अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए ये कहा वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा ने। उनका पूरा पोस्ट आप यहां पढ़ सकते हैं-

इनकी मंशा पहले से साफ़ थी। वे हमेशा से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को इसी तरह से दबाना चाहते थे। ख़ासकर जब वे सत्ता में हों।

यह 1993 की बात है जब मैं अविभाजित मध्यप्रदेश में भाजपा के एक तत्कालीन मंत्री से साक्षात्कार लेने पहुंचा था। उन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप थे। चुनाव होने वाले थे तो मैंने स्वाभाविक रूप से सवाल पूछे कि वे इतने आरोपों के बाद कैसे चुनाव लड़ेंगे। तमतमा गए। बोले कुछ नहीं। लेकिन उनके घर से निकलते ही मुझे और मेरे अख़बार देशबंधु के स्थानीय संवाददाता पतिराम जायसवाल को उनके गुंडों ने घेर लिया।

पतिराम तो धमतरी को जानते थे, वे किसी तरह निकल भागे, लेकिन मैं एक अंधी गली में जाकर फंस गया। जितना संभव था प्रतिकार किया लेकिन वे चार थे और मैं अकेला। जमकर पिटाई हुई। चश्मा टूट गया। चेहरे पर गहरी चोटें आईं। आंखों के नीले दाग उभर आए।

गनीमत थी कि उस समय पत्रकारों का सिर्फ़ एक खेमा था। सुबह रायपुर के सारे पत्रकार साथी गाड़ियों में भरकर धमतरी पहुंचे और धरने पर बैठ गए। विरोध जताना काम आया। पुलिस ने मामला दर्ज किया। और आख़िरकार मंत्री महोदय की टिकट कट गई।

हो सकता है कि भ्रष्टाचार की वजह से कटी हो, लेकिन पत्रकारों की एकजुटता ने भी काम किया। उनकी मंशा विपक्ष में होने तक दबी रही। अब फिर सत्ता में हैं तो फिर मुखर हो गई है। उनकी नींव में ही तानाशाही के पत्थर लगे हुए हैं। हिटलर और मुसोलिनी उनके आदर्श रहे हैं। वे लोकतंत्र के पक्षधर थे भी नहीं। वे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को समझते ही नहीं।

(साभार: फेसबुक वाल से)

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com