न्यूज चैनलों की चिल्लम-चिल्ली से हैं परेशान, तो मुद्दे को समझने के लिए देखें ये टीवी शो... न्यूज चैनलों की चिल्लम-चिल्ली से हैं परेशान, तो मुद्दे को समझने के लिए देखें ये टीवी शो...

न्यूज चैनलों की चिल्लम-चिल्ली से हैं परेशान, तो मुद्दे को समझने के लिए देखें ये टीवी शो...

Wednesday, 08 November, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

अमूमन न्यूज़ चैनल्स में गैर जरूरी मुद्दों पर तूतू— मैंमैं की बहस ही नजर आती है, ज्यादातर बहस राजनीति के उन मुद्दों पर होती है, जिस पर पार्टी के प्रवक्ता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते हैं और एंकर कभी उन्हें हड़काता है और कभी चीख-चीख कर अपना गला फाड़ता है। ऐसे में अब ज्यादातर टीवी दर्शक ऐसे शोर-शराबे वाली न्यूज डिबेट से कन्ना काटने लगे है। इसी का प्रमाण भी है कि टीआरपी चार्ट पर अब ये डिबेट शो भी अपनी जगह खो रहे है। पर मुद्दा ये है कि पाठकों को अगर किसी विषय के बारे में जानकारी जुटानी है या उसके कई पक्षों को वो समझना चाहते हैं, तो टीवी डिबेट शो के जरिए ही वे अपना ज्ञान बढ़ाना चाहते हैं। 

ऐसे में न्यूज़ नेशन चैनल का कार्यक्रम 'इंडिया बोले' मीडिया की शोर-शराबे वाले न्यूज डिबेट शो की छवि से इतर है। हर सप्ताह सोमवार शाम 6 बजे प्रसारित होने वाले इंडिया बोले में इस बार 'कचरा प्रबंधन की जरूरत और चुनौतियों' जैसे अहम मुद्दे पर चर्चा हुई। गंभीर विषय पर हुई ये चर्चा सरल और सौम्य तरीके से की गई, जिससे दर्शक इस अहम मुद्दे को पूरी तरह से समझ सके।

‘इंडिया बोले’ शो के एंकर अनुराग दीक्षित हैं, जिन्होंने शो के दौरान बताया कि हमारे देश में सालाना करीब 6 करोड़ टन कचरा पैदा हो रहा है। इसमें सबसे ज्यादा प्लास्टिक कचरा होता है! सिस्टम की विफलता ही है कि इसमें से करीब चार करोड़ टन कचरा ही इकठठा हो पाता है, जबकि उसका भी केवल एक तिहाई ही रिसाइकिल हो पाता है। शो में इस खतरे से भी आगाह किया गया कि अगले 13 सालों में कचरे के तीन गुना बढ़ जाने का अनुमान है। शो में पता चला कि कचरा प्रबंधन से जुड़े ढेरों नियम मौजूद हैं। केन्द्र सरकार, राज्य सरकार और स्थानीय निकाय तक की जिम्मेदारियां तय हैं। इसके लिए सरकारें सालाना कई सौ करोड़ रूपए आवंटित भी कर रही हैं, लेकिन हालात उतने बेहतर नजर नहीं आते।

अनुराग के मुताबिक तस्वीर सुधरना बेहद जरूरी है क्योंकि मामला नौनिहालों के भविष्य और दुनियाभर में देश की तस्वीर से ही नहीं बल्कि समाज की सेहत से भी जुड़ा है। शो में सवाल उठाया गया कि कचरा प्रबंधन के मोर्चे पर हालात सुधरेंगे कैसे? सुधारेगा कौन सरकार या समाज?

इंडिया बोले में इससे पहले प्रदूषण, महिला सुरक्षा, सैन्य मोर्चे पर भारत का खर्च जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर भी चर्चा की जा चुकी है। इंडिया बोले के एंकर अनुराग दीक्षित ने हाल ही में न्यूज़ नेशन चैनल जॉइन किया है। इससे पहले वो 11 साल तक लोक सभा टीवी में वरिष्ठ एंकर थे। लोक सभा टीवी में वह ‘लोक मंच’ नाम का डिबेट शो किया करते थे। गैरजरूरी मुद्दों पर हंगामेदार बहस के बीच न्यूज़ नेशन की इंडिया बोले जैसी पहल बेशक ना सिर्फ सुकून देती है बल्कि जागरूकता और जानकारी भी। टीआरपी के दबाव से दूर रहकर चैनल का ये प्रयोग वाकई काबिले तारीफ है। 

आप उनके एक शो की बानगी निम्न लिंक पर क्लिक कर देख सकते हैं...

http://www.newsnation.in/videos/special/india-bole-all-you-need-to-know-about-waste-management-rules-69/34884




पोल

क्या संजय लीला भंसाली द्वारा कुछ पत्रकारों को पद्मावती फिल्म दिखाना उचित है?

हां

नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com