सईद अंसारी, आज आपसे रश्क हो रहा है...

Monday, 19 February, 2018

अभिषेक मेहरोत्रा

ज सुबह अपने पत्रकार साथी आलोक श्रीवास्तव का एक मेसेज पढ़ा, जिसमें उन्होंने अपने दोस्त और आजतक के मशहूर चेहरे सईद अंसारी के बारे में अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। मेसेज पढ़ने के बाद खुशी तो हुई कि सईद अंसारी जो डिजर्व करते हैं, वो उन्हें मिला। पर आलोक जैसा दोस्त भी उन्हें मिला, इसे लेकर उनसे रश्क भी है, क्योंकि हमें ऐसा दोस्त मिला नहीं :)। जय-वीरू टाइप की ऐसी दोस्ती फिल्मों में तो देखी थी, पर जिस तरह से आलोक ने सईद के बारे में लिखा, रियल लाइफ में ऐसा कम ही दिखता है। हां अगर मीडिया फील्ड की बात करूं, तो अजीत अंजुम और विनोद कापड़ी की जोड़ी भी जय-वीरू की दोस्ती टाइप ही है।  

काश हम सबको जीवन में ऐसे दोस्त मिलें, तो वाकई जीवन आनंदित हो जाता है। और थ्री इडियट्स का ये सुपरहिट डॉयलॉग कि दोस्त अगर फेल हो जाए तो दुख होता है... लेकिन अगर दोस्त फर्स्ट आ जाए तो ज्यादा दुख होता है, ऐसी दोस्ती के सामने नतमस्तक हो जाता है, तो दिल को अच्छा लगता है। बधाई सईद अंसारी प्रतिष्ठित अवार्ड और अनमोल दोस्त दोनों के लिए...

नीचे पढ़े आलोक श्रीवास्तव की वो पोस्ट जिसमें उन्होंने सईद अंसारी के प्रति अपनी भावनाएं व्यक्त की है...

आजतकके अपने 9 साल के करियर में, बतौर प्रोड्यूसर मैंने बहुत क्रांतिकारी पत्रकारसे लेकर ऑटो एक्स्पो कवर करने वाली नई नवेली एंकर तक के साथ शो किए. अंजना ओम कश्यप जैसी तेज़ तर्रार पत्रकार के साथ राजतिलककिया तो श्वेता सिंह जैसी हरफ़नमौला जर्नलिस्ट के साथ गंगोत्री तक गया, सफ़र किया, शो बनाए. कैमरे के पीछे की दुनिया से लेकर, एडिट टेबल की सच्चाई तक, टीवी के तमाम चमकदार चेहरों की आँखों में झाँका. उनकी मेहनत, आदत, फ़ितरत, और तबीयत को जाना. उनका तेवर, जुनून, तरीक़ा भाँपा.

इस ज़िंदगी में आप, मैं, हम सब, अपने अपने मक़सद में कामयाबी के लिए दौड़ रहे हैं. कुछ अपनी रफ़्तार में ऐसे चल रहे हैं कि साथ चलने वाले साथी कहाँ और किस हाल में छूट गए, इसकी सुध तक उन्हें नहीं. लेकिन कुछ रुकते हैं, पीछे मुड़ते हैं, अपने साथी को देखते हैं, उसे फिर साथ लेते हैं और आगे चलते हैं. यह जो अपने साथी को, अपने मक़सद से भी बड़ा मानते हैं, इन्हीं को #सईद_अंसारी कहते हैं !

ऐसे लोग, अक्सर देर से रेखांकित और सम्मानित होते हैं. लेकिन इनका सम्मान इतना ख़ास हो जाता है, कि करने वाला भी ख़ुदको, सम्मानित महसूस करने लगता है.

मैं जिस पेशे से आता हूँ वो अब चीख़ने-चिल्लानेवाले ख़बरनवीसों की दुनिया माना जाता है. यही उसकी कामयाबी का पैमाना कहलाता है. लेकिन इसी शोर-शराबे के बीच, बड़ी ख़ामोशी के साथ, एक #सईद_अंसारी भी आता है. वो जब सम्मान पाता है, तो मुझे अपने कुनबे के पितामह दुष्यंत कुमार का यह शेर याद आता है-

 सिर्फ़ हंगामा खड़ा करना मेरा मक़सद नहीं,

मेरी कोशिश है केये सूरत बदलनी चाहिए !

#Exchange4media को, उसकी समझदारी के लिए साधुवाद. सर्वश्रेष्ठ हिंदी न्यूज़ एंकर चुनने वाली ज्यूरी का शुक्रिया. और सोशल मीडिया के हर प्लेटफ़ॉर्म से मीलों दूर, अज़ीज़ दोस्त #सईद_अंसारी को आकाश भर बधाइयाँ, मुबारकबाद।



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com