पुण्य प्रसून ने क्यों नहीं बताया मास्टर स्ट्रोक का असली राज!

Thursday, 05 April, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

तो आखिरकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने अपना आगाज एबीपी न्यूज के परदे पर कर ही दिया। सोमवार को रात नौ बजे वो एबीपी न्यूज पर अपने शो मास्टर स्ट्रोकके साथ परदे पर लॉन्च हुए। ये इसलिए खास था कि उनका शो दस्तकया ‘10तकरात 10 बजे आता था और न्यूज चैनल्स पर बड़ी फाइट रात नौ बजे के शो के लिए मानी जाती रही है, जिसमें अरनब गोस्वामी का डिबेट शो, सुधीर चौधरी का डीएनए, किशोर अजवाणी का सौ बात की एक बात, दिबांग का जन-मन आदि टक्कर में रहे हैं। इसलिए पुण्य प्रसून का मुकाबला ऐसे कई शोज से होगा या इसकी चर्चा होगी। हालांकि पुण्य प्रसून के नए शो की स्टोरीज की चर्चा तो बाद मे होगी, लेकिन टाइटल की चर्चा अभी से शुरू हो गई है। ऐसे में पुण्य प्रसून भी फंसते दिखे, जब उन्हीं के चैनल की एंकर चित्रा त्रिपाठी ने उनसे इस शो के नाम के पीछे की कहानी जाननी चाही।

दरअसल सोमवार को ये शो लॉन्च होना था, तो एबीपी ने कई दिन पहले से पुण्य प्रसून बाजपेयी के कई टीजर प्रोमो चैनल पर चलाने शुरू कर दिए। सोमवार को तो चैनल के सभी वरिष्ठ पत्रकारों ने इस शो के बारे में ट्वीट भी किया, शो के नाम के साथ फायनल प्रोमो भी ट्वीट किया, हर ब्रेक में दिखाया गया। सोमवार को ही पुण्य प्रसून जी के साथ एंकर चित्रा त्रिपाठी का एक फेसबुक लाइव भी प्लान किया गया। आपको बता दें कि फेसबुक पर चित्रा की फैन फॉलोइंग काफी जबरदस्त है।

दिक्कत वहां हुई जब चित्रा ने शुरुआत में ही पुण्य प्रसून बाजपेयी से ये सवाल दाग दिया कि आपने इस शो का नाम मास्टर स्ट्रोकक्यों रखा है? आपको बता दें सोशल मीडिया पर भी इस बात की चर्चा हो रही है क्योंकि एबीपी न्यूज पहले जरूर रेड अलर्ट जैसे अंग्रेजी नाम वाले शो रखता आया है, लेकिन अब हिंदी के नाम रखने की वजह से चैनल चर्चा में रहता है। घंटी बजाओ, जन गन मन, प्रधानमंत्री, रक्त रंजित, रामराज्य और हालिया शुरू हुआ त्वरित भी इसी का उदाहरण है। ऐसे में पुण्य प्रसून के इस इंगलिश टाइटल वाले शो की चर्चा लाजिमी थी।

हालांकि चित्रा के सवाल पर पुण्य प्रसून जी के फौरी रिएक्शन से लगा वो इस सवाल के लिए तैयार नहीं थे, उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानसेवक मास्टर स्ट्रोक खेलते रहे हैं, राहुल गांधी भी मास्टर स्ट्रोक लगा रहे हैं लेकिन जो असल जनता से जुड़े जो मुद्दे हैं, ना सुनी जाने वाली जो आवाजें हैं, उनका मास्टर स्ट्रोक कोई नहीं लगा रहा। वो आवाजें मैं अपने शो मे सुनाऊंगा। हल्ला हंगामा नहीं होगा, हिंदू मुस्लिम नहीं होगा आदि।

ऐसे में अब सवाल ये उठ रहा है कि पुण्य प्रसून जी ने ये क्यों नहीं बताया कि वो इस नाम से एक शो पहले भी टीवी पर ला चुके हैं। जब वो सहारा चैनल के संपादक बन कर गए थे तो सहारा के नाम में समय जोड़ा गया था और उनके लिए एक शो शुरू किया गया था मास्टर स्ट्रोक। इस बार भी वो आजतक से ही किसी दूसरे चैनल में आए हैं और फिर लगाने जा रहे हैं मास्टर स्ट्रोक, लेकिन सहारा के शो का जिक्र उन्होंने नहीं किया, शायद चैनल वाले दूसरे चैनल का जिक्र करना पसंद नहीं करते हैं। फिर भी जो लोग भूल गए हैं उनके लिए तो ये जानकारी दिलचस्प होगी ही।

हालांकि एबीपी पर उनके पहले शो का सभी को काफी बेसब्री से इंतजार था, जाहिर है कल दलित आंदोलन और भारत बंद के दौरान हिंसा ब़ड़ा मुद्दा बना। प्रसूनजी ने कायदे का सवाल भी पूछा कि इतनी दलित लीडर्स टॉप पोस्ट पर आजादी के बाद रहे हैं, फिर भी दलितों पर अत्याचार क्यों। एमपी के खनन और यूपी में किसानों से कर्ज माफी की रकम वसूली की सरोकारी खबरें भी दिखाई और इराक से शवों को वापस लाने से जुड़ी एक इमोशनल स्टोरी भी। अब अगले हफ्ते की टीआरपी तय करेगी कि पुण्य प्रसून जी का नए चैनल और नए समय पर लोगों ने कैसा इस्तकबाल किया है।

 

समाचार4मीडिया.कॉ देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबु पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं

 



पोल

आपको 'फैमिली टाइम विद कपिल शर्मा' शो कैसा लगा?

'कॉमेडी नाइट्स...' की तुलना में खराब

नया फॉर्मैट अच्छा लगा

अभी देखा नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com