‘मीडियाकर्मियों के लिए इस भीषण गर्मी में छंटनी के बादल मंडरा रहे हैं’

Wednesday, 30 May, 2018

अमर आनंद

वरिष्ठ टीवी पत्रकार ।।

नई राह’ पर चाह और उत्साह का प्रवाह

पिछले दिनों खबर आई कि एक अखबार को पूरी तरह बंद किया जा रहा है। हम कलमकारों के लिए चुनौतयों का वक्त है। एक नामचीन चैनल अस्ताचलगामी सूर्य की गति पर है उसके उदय होने की संभवानाएं फिलहाल नजर नहीं आ रही है। एक बड़े चैनल ने हाल ही में दर्जनों लोगों को बाहर का रास्ता दिखाया गया। नई दिल्ली से चलने वाला एक चैनल जिसके नाम में लाइव था, ऐसा डेड हुआ कि फिर उठा ही नहीं। दर्जनों निम्न-मध्यम चैनलों और अखबारों की अर्थ व्यवस्था बुरी तरह चरमराई हुई है। मीडियाकर्मियों के लिए इस भीषण गर्मी में छंटनी के बादल मंडरा रहे हैं। मीडिया से जुड़े ज्यादातर लोगों के लिए बेरोजगारी से जूझने का दौर है। जितने लोग नौकरियों में हैं, उससे 10 गुना नौकरियों की तलाश में विकल्प सिमटते जा रहे हैं। इश्तेहार पर चलने वाले टीवी और अखबारों की कमाई सिकुड़ती जा रही है और वो लगातार खर्चे कम कर रहे हैं। लगातार सैकड़ों यूनिवर्सिटी और संस्थानों से मीडिया में छा जाने का सपना देखने वाली उन आंखों की उम्मीदों का होगाये एक बड़ा सवाल है। हमें लगातार इन सवालों का सामना करना होगा।

आप मीडिया में किसी से भी पूछिए नौकरी कैसी चल रही हैकुछ को छोड़कर ज्यादातर लोग रोते हुए मिलेंगे। बॉस का फरमानकाम का बोझ और संसाधनों का रोना रोते मिलेंगे। नौकरी रहे या न रहे, इस चिंता में तो सब शामिल हैं ही, अब तो इससे बड़ी चिंता है कि चैनल या अखबार रहे न रहे। चैनल या अखबार के मालिक ने शटर डाउन कर दिया तो आप क्या कर लेंगेउससे भिड़ तो सकते नहीं। अदालत के चक्कर काट सकते हैंजब तक धैर्य है। इसके अलावा कोई चारा नहीं। अभी भी कई लोग अपने संस्थानों के मारे अदालतों के चक्कर लगा रहे हैं। मीडियाकर्मी हर दिन एक आशंका के साथ जगता है और दिन के सकुशल खत्म होने पर ईश्वर को धन्यावाद देता है।

नामचीन चैनलों और अखबारों में काम करते हुए मीडिया में 20 साल पूरे करने के बाद  2015 में हमने इन आशंकाओं को भांप लिया था

ये एक ऐसी राह हैजो आपको जर्नलिज्म से अलग नहीं करतीवो राह जो आपको किसी की नौकरी नहीं करने देतीवो राह जो आपको जन समस्याओं और जन भावनाओं को जोड़े रखती है। वो राह जो आपको उनके जज्बे बढ़ाने में मदद करती है, जो लोग देशसमाज और इंसानियत के लिए जीते हैं। वो राह जो आपके अंदर एक ऐसी चाह पैदा करती है जिसका प्रवाह एक सांस्कृतिक आंदोलन की शक्ल ले सकता है। एक ऐसी राह जिसमें आप सांस्कृतिक शैली में सामाजिक अभियान चला सकते हैं और लोगों को जोड़कर देश भर में इसका दायरा बना सकते हैं। मैंने अपने इस अभियान का नाम ईवेंट जर्नलिज्म रखा है। ईवेट जर्नलिज्म यानी सांस्कृतिकसंगीतमय समारोह जिसे आप टीवी पत्रकारिता या प्रिंट पत्रकारिता का हिस्सा बना सकते हैं या फिर इसे आजाद पत्रकार की तरह कर सकते हैं। आखिर मास कम्युनिकेशन यानी जन संचार का ही तो एक रूप है यह भी।

जनता की परेशानियों से दूर भागते टीवी चैनलों की 'थप्पड़ मारबहसअखबारों की भोथरी धार के बीच ये कौन नहीं जानता कि मीडिया में सरकार का कितना और असर है और सरोकार की कितनी जगह। मीडिया का रोल और सोशल मीडिया की अतिरिक्त सक्रियता और इसमें असर कर चुके निरर्रथक राजनीतिक बहसों के इस दौर में अगर आप बतौर पत्रकार समाज के सामने सकारात्मक शैली में कुछ नया और लीक से हटकर पेश करने की कोशिश कर रहे हैं तो जाहिर तौर पर ये कोशिश लोगों का ध्यान खींचेगी और ऐसा हो भी रहा है।

जिंदगी के जद्दोजहद में जुटे कुछ लोगों के लिए भी हमने एक उम्मीद जगाई है। हमारा मकसद उन लोगों का हौसला बढ़ाना है जो देश और समाज का हौसला है। उनका जज्बा बढ़ाना है जो  देश और समाज का जज्बा है। उन चेहरों पर खुशी लाने की कोशिश करना है जो गम में हैं। ऐसा हम गीत-संगीतपत्रकारिता के जरिए सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से कर रहे हैं।

मैं इस बात को लेकर निश्चिंत हूं कि ईंवेट जर्नलिज्म का ये अभियान पूरे देश में फैलेगा और इसमें उन पत्रकारों के लिए भरपूर संभावनाएं हैं जिनके पास रोजी रोटी नहीं हैलेकिन लोगों को जोड़ने का सामर्थ्य है। इसके लिए चैनल या अखबार के फरमान पर इश्तेहार जुटाना मुश्किल है मगर किसी सामाजिक आयोजन के लिए संसाधन जुटाना आसान। ये एक नई राह है जिस पर चाह और उत्साह के प्रवाह से हम मीलो दूर तक का सफर तय कर सकते हैं वो भी उम्मीद भरी उस मुस्कान के साथजिसे लाने में आपकी भूमिका होगीवो मुस्कान जो एक सार्थक काम करने की वजह से आखिरकार आपके चेहरे पर भी होगी।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।  



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com