महिला दिवस पर बोले डॉ. वैदिक, नारी के सम्मान के लिए ये नैतिक कदम उठना जरूरी...

महिला दिवस पर बोले डॉ. वैदिक, नारी के सम्मान के लिए ये नैतिक कदम उठना जरूरी...

Thursday, 08 March, 2018


डॉ. वेदप्रताप वैदिक

वरिष्ठ पत्रकार ।।

आज सारी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जा रहा है, क्योंकि संयुक्त राष्ट्रसंघ ने 8 मार्च का दिन इसके लिए घोषित किया है। संयुक्तराष्ट्र में यह दिवस इसलिए मान्य हुआ कि यूरोप और अमेरिका की महिलाओं ने 20वीं सदी के शुरू से ही महिला-अधिकारों के लिए जबर्दस्त आंदोलन किए। पश्चिमी राष्ट्रों में महिलाओं के साथ अत्याचार का इतिहास बहुत लंबा रहा है। औरत को कभी आदमी के बराबर समझा ही नहीं गया।

औरत याने हव्वा की उत्पत्ति पुरुष याने आदम की पसली से बताई गई है। नारी को नरक का द्वार कहा गया है। ब्रिटेन में लोकतंत्र को आए लंबा समय बीत गया लेकिन औरतों को मूलाधिकार 1918 में जाकर मिला। औरतों को आदमी के बराबर दर्जा देने की लड़ाई में सबसे ज्यादा अडंगा यूरोप और अरब देशों के धर्म-ध्वजियों ने लगाया।

आज भी इन पश्चिमी देशों में शिक्षा और संपन्नता के प्रसार के बावजूद स्त्रियों का दर्जा सम्मानजनक नहीं है। वे पुरुष की आक्रामक काम-वासना की शिकार होती हैं। अमेरिका के राष्ट्रपतियों के किस्से किसे पता नहीं है? आज भी दुनिया की शासन-व्यवस्था और व्यापार में औरतों का स्थान नगण्य है। दुनिया के लगभग 200 राष्ट्रों में से दो दर्जन भी ऐसे नहीं है, जिनकी राष्ट्राध्यक्ष स्त्रियां रही हैं। दुनिया के संसदों और मंत्रिमंडलों में औरतों का स्थान 20 प्रतिशत भी नहीं है। उद्योग-व्यापार के क्षेत्र में दुनिया के सबसे संपन्न व्यक्तियों की सूची बनाई जाए तो उसमें महिलाओं का स्थान खोजने के लिए हमें खुर्दबीन लगानी होगी।

महिला दिवस पर सारी दुनिया में जबानी जमा-खर्च होता रहता है। जरूरी यह है कि महिलाओं के अधिकार और सम्मान के लिए कुछ ठोस कानूनी और नैतिक कदम उठाए जाएं। दुनिया के सभी संसदों और विधानसभाओं में कम से कम 40 प्रतिशत सीटें महिलाओं के लिए सुरक्षित की जाएं। मंत्रिमंडलों में भी उन्हें कम से कम 30 प्रतिशत सीटें मिलें। इसके लिए यह जरूरी है कि देश की हर बच्ची को सुशिक्षित बनाने के लिए सारी सुविधाएं दी जाएं। जो नागरिक अपनी बेटियों को नहीं पढ़ाएं, उन पर जुर्माना किया जाए।

महिला अधिकारों या नर-नारी समता के नाम पर चल रहे निरंकुश दुराचरण पर सख्ती से रोक लगाई जाए। दहेज-विरोधी आंदोलन जोरों से चलाया जाए। विज्ञापनों में नारी-देह के फूहड़ प्रदर्शन पर रोक लगाई जाए। बलात्कारियों को मृत्यु-दंड दिया जाए और उनके फैसले तत्काल किए जाए। दस-बीस साल तक इस तरह का अनुशासन सारे देश चलाएं तो फिर महिला-दिवस मनाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com