वरिष्ठ पत्रकार निर्मलेंदु बोले, योगी जी आपके चाहने वाले दुखी हुए हैं...

वरिष्ठ पत्रकार निर्मलेंदु बोले, योगी जी आपके चाहने वाले दुखी हुए हैं...

Friday, 09 March, 2018

निर्मलेंदु

कार्यकारी संपादक,

दैनिक राष्ट्रीय उजाला ।।

सीएम योगी जी आपने कहा, मैं हिंदू हूं, ईद नहीं मनाता, इसका मुझे गर्व है। यदि आप इतना ही कह देते कि आप हिंदू हैं, इसका आपको गर्व है, तो शायद अच्छा होता। आपने यह भी कहा मैं जनेऊ धारण कर, सिर पर टोपी पहनकर कहीं मत्था नहीं टेकता। ये बातें आपने किस संदर्भ में कहीं, यह सबको पता है। लेकिन सवाल यह उठता है कि यदि आप केवल इतना ही कहते कि आप हिंदू हैं और इसका आपको गर्व है, तो लोग बात का बतंगड़ नहीं बनाते।

खुलकर बोलना और साफ-साफ बोलना अच्छी बात है, लेकिन कहां कितना बोलना है, कहां कितना कम बोलना है, कहां चुप रहना है, कैसे बोलना है, किस रूप में बोलना है, कहां तक बोलना है, बोलते वक्त चेहरे का हाव भाव कैसा हो, इन बातों पर भी विचार करना होगा। आप उत्तरप्रदेश के सीएम हैं। सीएम की गरिमा उनकी भाषा, उनकी बोलचाल और हाव-भाव में दिखनी चाहिए। आपने विपक्ष पर तो जोरदार रूप से हमला कर दिया, लेकिन आपके चाहने वाले दुखी हुए। नहीं, आपने ऐसा नहीं चाहा होगा, लेकिन न चाहते हुए भी आपने इस तरह की असंसदीयभाषा का प्रयोग कर दिया।

आप समझदार सीएम हैं और आगे जाकर आपको कुछ और हासिल करना है, लेकिन यदि इस तरह की भाषा का आप प्रयोग करेंगे, तो दो संप्रदाय के बीच आप स्वयं भेदभाव पैदा कर देंगे। आप किसी चीज को पसंद नहीं करते, तो उसका जिक्र न करें, जिस चीज को पसंद करते हैं, उसके बारे में बताएं। जो न जानते हों, उन्हें उसकी खासियत से अवगत कराएं। अपनी बात रखें, लेकिन तोल मोल के। संसदीय गरिमा के साथ। 

नफरत की सियासत क्यों? केवल सीएम बने रहने के लिए। ऐसा काम करके जाएं कि लोग आपके जाने के बाद भी यही कहें कि योगी की बात ही निराली है। योगी जी, आपको संयम से काम लेना होगा। आपके ऊपर उत्तरप्रदेश की जिम्मेदारी है। देश का सबसे बड़ा राज्य है उत्तरप्रदेश। सत्ता के गुरूर में आप अपनी परंपरा, आचार-व्यवहार और अपनी साख न खो दें। आप तो मुझसे भी ज्यादा जानते हैं। परिस्थितियां कभी समस्या नहीं बनतीं, समस्या तभी बनती हैं, जब हमें परिस्थितियों से निपटना नहीं आता। सच तो यही है कि सभी समस्याएं मन की ही उपज हैं, सभी नकारात्मक विचार हमारे मन के अंदर से ही आती है। संसार बुरा नहीं है, हम बुरे हैं, क्योंकि हम ही उसे सुंदर या कुरूप बनाते हैं। हम अपने स्वार्थ के लिए सच को झूठ और झूठ को सच बना देते हैं। लेकिन सच हमेशा खड़ा रहता है, चाहे लोगों का समर्थन मिले या न मिले। दरअसल, सच ही आत्मा है। आप बेहतर जानते हैं। श्रीकृष्ण ने कहा था कि कलियुग में मानव का मन नीचे गिरेगा, उसका जीवन पतित होगा। यह पतित जीवन धन की शिलाओं से नहीं रुकेगा, और न ही सत्ता के वृक्षों से रुकेगा। मधुर वचन और दूसरों के सम्मान से ही मनुष्य जीवन का पतन रुक सकता है। हम सब न केवल जानते हैं, बल्कि मानते भी हैं कि जो ज्ञानी है, उसे समझाया जा सकता है, जो अज्ञानी होता है, उसे भी समझाया जा सकता है, परंतु जो अभिमानी, अहंकारी होता है, उसे कोई नहीं समझा सकता। 

कवि गुरु रविन्द्रनाथ टैगोर कह गये हैं कि अज्ञान के समान कोई शत्रु नहीं है तथा ज्ञान के समान कोई सुख नहीं है। हमें एक बात हमेशा गांठ बांध लेनी चाहिए कि मूर्ख अपने घर में पूजा जाता है, मुखिया अपने गांव में, परंतु विद्वान सर्वत्र पूजा जाता है। आप या हम अगर विद्वान हैं, तो हम हमेशा याद किए जाएंगे। हम सब किसी न किसी से कुछ न कुछ मांंगते है। आप भी मांगते हैं- वोट। वोट मिलने के बाद फिर  राजा बन जाते हैं पाच साल के लिए। भूल जाते हैं कि पांच साल यूं ही बीत जाएगा। दरअसल, प्रेम और भक्ति का मार्ग बहुत ही आसान लगता है, लेकिन इस मार्ग पर ज्ञान मार्ग की अपेक्षा कहीं ज्यादा गड्ढे हैं, जिनमें गिरने का खतरा कहीं न कहीं, किसी न किसी रूप में बना ही रहता है।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com