दिल्‍ली हाई कोर्ट से वरिष्‍ठ प‍त्रकार अरनब गोस्‍वामी को मिली ये बड़ी राहत दिल्‍ली हाई कोर्ट से वरिष्‍ठ प‍त्रकार अरनब गोस्‍वामी को मिली ये बड़ी राहत

दिल्‍ली हाई कोर्ट से वरिष्‍ठ प‍त्रकार अरनब गोस्‍वामी को मिली ये बड़ी राहत

Monday, 11 September, 2017

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

कांग्रेस नेता शशि थरूर की पत्‍नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने कोई भी खबर प्रसारित करने या डिबेट आयोजित करने को लेकर वरिष्ठ पत्रकार अरनब गोस्वामी और उनके चैनल रिपब्लिक टीवी’ (Republic TV)  पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है।

अदालत ने कहा कि मामले में विस्तृत सुनवाई की आवश्यकता है और केवल तभी इस मामले पर कोई विस्तृत आदेश पारित किया जा सकता है। जस्टिस मनमोहन की खंडपीठ का कहना है कि कांग्रेस नेता ने ऐसा कोई कानूनी धारा नहीं बतायी, जिससे यह साबित हो कि पत्रकार जांच नहीं कर सकते हैं। जस्टिस ने यह भी कहा, ‘मुझे दिखाइए कि सुनवाई की पहली तारीख (29 मई) के बाद उसने आपको हत्यारा कहा है।

न्यायमूर्ति का कहना था, ‘मैं इस बारे में निर्देश नहीं दे सकता हूं कि एक चैनल की क्या एडिटोरियल पॉलिसी होनी चाहिए। निश्चित रूप से लोगों को यह जानने का अधिकार है कि इस मामले में क्या हुआ है। साढ़े तीन साल में भी पुलिस ने अभी तक इस मामले में चार्जशीट दाखिल नहीं की है।’ 

इससे पहले मई के आखिर में, दिल्ली हाई कोर्ट ने थरूर की मानहानि याचिका पर गोस्वामी को नोटिस जारी कर बयानबाजी से बचने के लिए कहा था। कोर्ट का कहना था, ‘आप इसमें सीधे-सीधे थरूर का नाम नहीं ले सकते हैं, यह गलत है।अदालत का कहना था कि याची के खिलाफ इस प्रकार की बयानबाजी उचित नहीं है। अदालत ने अरनब गोस्वामी से कहा था कि जो कुछ भी है, आप याची को एक राजनीतिज्ञ के रूप में अपराधी नहीं कह सकते हैं। आप इस तरह की भाषा का उपयोग नहीं कर सकते हैं। पत्रकार को जांच करने का अधिकार है, जिसे रोका नहीं जा सकता, लेकिन साथ ही उसे शांत और संतुलित रहना चाहिए।

गौरतलब है कि दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में 17 जनवरी 2014 को सुनंदा संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाई गई थीं। इस मामले में शशि थरूर ने अरनब गोस्वामी और उनके चैनल पर रिपोर्टिंग के दौरान मानहानि का आरोप लगाते हुए 20 मिलियन रुपये का दावा ठोंका था। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया है कि सुनवाई की 16 अगस्त को सुनवाई के बाद पत्रकार और रिपब्लिक चैनल ने गलत रिपोर्टिंग करनी जारी रखी और चार सितंबर को उनकी पत्नी की मौत के संबंध में आठ घंटे तक कार्यक्रम का प्रसारण किया। थरूर ने याचिका में ये कहा है कि गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी को निर्देश दिया जाए कि वे उनके खिलाफ किसी भी तरह से कोई मानहानि वाली बात न कहें।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

क्या संजय लीला भंसाली द्वारा कुछ पत्रकारों को पद्मावती फिल्म दिखाना उचित है?

हां

नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com