भ्रामक विज्ञापनों की अब इस तरह भी कर सकते हैं शिकायत

Friday, 11 March, 2016

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करने के अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए एडवर्टाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया (ASCI) ने उपभोक्ताओं से जुड़ने और गुमराह करने वाले विज्ञापनों पर अंकुश लगाने के लिए तकनीकी का सहारा लेना शुरू कर दिया है। जिन विज्ञापनों पर उपभोक्ताओं को आपत्ति है, वे अब वॉट्सऐप नंबर +91 77-100-12345 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। यह दूसरा मौका है जब एएससीआई ने उपभोक्ताओं के लिए इस तरह का कदम उठाया है। पिछले साल ही एएससीआई ने ASCIonline मोबाइल ऐप लॉन्च किया था। यह नंबर 10 मार्च से शुरू हो गया है। इस नंबर पर की गई शिकायतों पर एएससीआई बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की नजर रहेगी। इस बारे में एएससीआई के चेयरमैन बिनॉय रॉय चौधरी ने कहा, ‘विश्व उपभोक्ता दिवस (15th March) के निकट यह वॉट्सऐप नंबर लॉन्च कर हम बहुत खुश हैं। इससे उपभोक्ताओं को शिकायत करने में और आसानी होगी। आज लगभग प्रत्येक व्यक्ति के पास स्मार्ट फोन है और वह वॉट्सएप का इस्तेमाल कर रहा है। तकनीकी ने आज लोगों की दिनचर्या इतनी सुगम कर दी है कि वे चाहे घर पर अखबार पढ़़ रहे हैं अथवा कहीं सफर पर है, वे अब हमसे जुड़़े रह सकते हैं।’ उपभोक्ताओं को ऐसे विज्ञापनों की सिर्फ फोटो, विडियो या यू ट्यूब लिंक आदि भेजना होगा, जो लोगों को गुमराह कर रहे हैं और इसके बाद एएससीआई इन शिकायतों की स्क्रूटनी करेगी और यदि उसे लगता है कि शिकायत सही है तो आगे कार्रवाई करने के लिए वह उपभोक्ताओं से पूरा ब्योरा जैसे नाम और ईमेल आईडी मांगेगी। उपभोक्ताओं की शिकायत पर क्या कार्रवाई हो रही है, यह अपडेट उसे एसएमएस और ईमेल के माध्यम से प्राप्त होता रहेगा। उपभोक्ताओं को शिकायत के लिए कोई शुल्क भी नहीं चुकाना होगा। इस लॉन्चिंग के बाद जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा, जिसमें लोगों को इस नंबर के इस्तेमाल की जानकारी दी जाएगी।   समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com