डिजिटल मीडिया में ये चार ‘C’ निभा रहे हैं खास भूमिका

डिजिटल मीडिया में ये चार ‘C’ निभा रहे हैं खास भूमिका

Tuesday, 06 June, 2017

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।
Content, communication, commerce & context are driving digital transformation: Dr. Jai Menon, HT Mediaएचटी मीडिया’ (HT Media) जैसे किसी बड़े ऑर्गनाइजेशन को डिजिटल में परिवर्तित करना इतना आसान काम नहीं है। हालांकि एचटी मीडिया के ग्रुप डायरेक्‍टर (टेक्‍नोलॉजी) डॉ. जयमेनन के नेतृत्‍व में तकरीनब सौ साल पुराने इस ऑर्गनाइजेशन ने आसानी से इस दिशा में एक नई पहचान बना ली है और यह समय की मांग को बखूबी पूरा कर रहा है।

एचटी मीडिया को डिजिटल की ओर परिवर्तित करने में डॉ. मेनन का तरीका भी काफी अलग ही रहा है। उन्‍होंने इस बदलाव को एक व्‍य‍वस्थित तरीके से किया है जो अब इसके न्‍यूजरूम के जरिये रिफ्लेक्‍ट हो रहा है, जहां से देशभर के इसके एडिशन को दिशा-निर्देश दिए जाते हैं।


इस बारे में डॉ. मेनन का कहना है, ‘यदि आप मीडिया को देखें तो इसमें दो तरह के प्‍लेयर होते हैं। इनमें एक तो पारंपरिक मीडिया (traditional medialike) जैसे एचटी मीडिया होता है और दूसरा बिल्‍कुल डिजिटल होता है और सबसे अच्‍छी बात ये है कि दोनों मिलकर चलते हैं। डिजिटल की ओर बदलने में हमें कुछ समय लगा और जब हमने इसकी शुरुआत कर दी तो हमारा खुद से एक आसान सा सवाल था कि क्‍या हम कोई डिजिटल आइसलैंड तैयार करने जा रहे हैं या क्‍या हम इन चीजों को व्‍यवस्थित रूप में कर पा रहे हैं और इसके बाद हमने समग्र रूप में व्‍यवस्थित तरीके से करने का निर्णय लिया। यह परिवर्तन दरअसल, एक ऐंटरप्राइजेज के ऑपरेशंस को इंटरनेट स्‍टाइल के ऑपरेशंस में बदलने का था। इसके लिए हमने एक न्‍यूज रूम बनाया जहां पर ट्रेडिशनल और डिजिटल से जुड़े लोग एक साथ बैठते हैं।


डॉ. मेनन का कहना है कि हालांकि यह कवायद सफल रही है लेकिन इसमें सबसे बड़ी चुनौती कल्‍चर को बदलने की रही है। उन्‍होंने बताया, ‘डिजिटल ट्रांसफॉर्म की बात करें तो इसमें सबसे ज्‍यादा कठिनार्इ कल्‍चरल ट्रांसफॉमेशन में हुई। दरअसल इसमें उन लोगों को डिजिटल के बारे में बताना और प्रेरित करना था जो आराम से ट्रेडिशनल कामों में लगे हुए थे। यदि हम अपने पूरे दिन के क्रियाकलापों को देखें तो उसमें कल्‍चरल बातें काफी महत्‍वपूर्ण होती हैं। हमने इंटीग्रेटिड सीएमएस सिस्‍टम (CMS) शुरू किया, जिसमें स्‍टोरी को ऑनलाइन भेजकर देश भर में हमारे एडिशस में प्रिंट किया जाता है।


मीडिया और ऐंटरटेनमेंट इंडस्‍ट्री (M&E) में लगातार हो रहे बदलावों और टेलिकॉम एवं मीडिया में आ रहे मामूली फर्क के बारे में डॉ. मेनन ने कहा, ‘इस समय हो रहे डिजिटल ट्रॉंसफॉर्मेशन के बारे में मैं आपसे कुछ चीजें शेयर करना चाहता हूं। मैंने लगभग साढ़े दस साल तक टेलिकॉम इंडस्‍ट्री में काम किया है, जिसमें काफी महत्‍वपूर्ण बदलाव देखने को मिले हैं। अब यह वॉयस इंडस्‍ट्री से डाटा इंडस्ट्री में बदल चुकी है और अब कंटेंट इंडस्‍ट्री बन रही है। ऐसे में टेलिकॉम और मीडिया के बीच मामूली फर्क को देखना काफी दिलचस्‍प है। पांच-छह साल पहले जब काफी बड़े पैमाने पर ओटीटी (OTT) आया था, तब इसमें टेलिकॉम प्रोवाइडर्स की जरूरत नहीं थी।


डॉ. मेनन के अनुसार, ‘यदि आप तीन सी (C) यानी कंटेंट, कम्‍युनिकेशन और कॉमर्स को देखें तो टेलिकॉम अथवा मीडिया इंडस्‍ट्री में तीन सीएक साथ काफी बड़े पैमाने पर चल रहे हैं। इन सभी को एक और सी यानी कंटेस्‍ट (context) की जरूरत होती है। ये चारों सी मिलकर ही डिटिजल ट्रॉंसफॉर्मेशन को चला रहे हैं।


डिजिटल के क्षेत्र में तेजी से हो रहे बदलावों को देखते हुए एचटी मीडिया के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में डॉ. मेनन ने कहा, ‘ लगभग 100 साल पुराने एचटी मीडिया जैसे ट्रेडिशनल प्‍लेयर्स का यह कहना कि हम बड़े पैमाने पर डिजिटल की ओर परिवर्तित हो रहे हैं, काफी रोमांचक है।’ 


हालांकि एक सवाल यह भी उठ रहा है कि क्‍या मीडिया और ऐंटरटेनमेंट (M&E) अलग इंडस्‍ट्री बने रहेंगे खासकर ऐसे समय में जब टेलिकॉम के बीच मामूली फर्क आया हो। मुझे लगता है कि बिजनेस मॉडल की नवीनता आने वाले समय में सबसे बड़ी चुनौती होगी और हमें इसके साथ डील करने के रास्‍ते तलाशने होंगे।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com