RSTV: नए संपादक का इंतजार, कवरेज पर हो रहा खूब विवाद...

RSTV: नए संपादक का इंतजार, कवरेज पर हो रहा खूब विवाद...

Thursday, 08 February, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

राज्यसभा में बुधवार को राज्यसभा टीवी द्वारा विपक्षी पार्टियों को कवरेज न देने का मुद्दा उठा। इस दौरान कांग्रेस ने भेदभाव का आरोप लगाते हुए सदन से इसकी जांच की मांग की और लोक प्रसारक को भाजपा टीवी में नहीं बदलने का आग्रह किया।

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने आरएसटीवी की शुरुआत से कमान संभाल रहे एडिटोरियल डायरेक्टर राजेश बादल ने इस्तीफा दे दिया है और वे अब छुट्टी पर चल रहे हैं। ऐसे में चैनल के कंटेंट को लेकर मच रहे बवाल से शायद यही संकेत जा रहा है कि चैनल अपनी एडिटोरियल पॉलिसी से कहीं भटक तो नहीं रहा है। उम्मीद है कि आगे राज्यसभा टीवी की कवरेज को लेकर इस तरह के विवाद उत्पन्न न हो इसलिए शीघ्र ही चैनल को एक नए संपादक की जरूरत है। 

गौरतलब है कि नवंबर के महीने में प्रसार भारती के चेयरमैन ए. सूर्यप्रकाश की अध्यक्षता में गठित कमेटी, जिसमें प्रसार भारती के CEO शशि शेखर वेम्पती, वरिष्ठ टीवी पत्रकार राहुल श्रीवास्तव, राज्यसभा सदस्य स्वप्नदास गुप्ता व  राज्यसभा सचिवालय मे कार्यरत एडिशनल सेक्रेट्री (पर्सनल) पी.पी.के रामाचरयुलू  ने चैनल के नए एडिटर-इन-चीफ के लिए कई वरिष्ठ पत्रकारों का इंटरव्यू लिया था, पर सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, शायद चयनित नाम पर उपराष्ट्रपति ने हरी झंडी नहीं दिखाई इसलिए अभी तक चैनल को नया संपादक नहीं मिल पाया है। 

दरअसल, तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन ने सदन में कहा कि कुछ देर पहले उन्होंने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में हिस्सा लिया था, लेकिन उनके भाषण का प्रारंभिक पांच मिनट का राज्यसभा टीवी पर प्रसारण नहीं किया गया।

हालांकि उनके इस बयान पर राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने सहमति जताई और कहा कि ‘यह एक गंभीर मुद्दा है। सभी राजनीतिक पार्टियों को राज्यसभा टीवी द्वारा उचित कवरेज मिलना चाहिए। राज्यसभा टीवी पर डेरेक ओ ब्रायन के भाषण का करीब पांच मिनट का हिस्सा प्रसारित नहीं किया गया।

आजाद ने कहा कि सोमवार को सदन में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह का भाषण हुआ था और शाम आठ बजे की खबरों में 98 प्रतिशत समय केवल भाजपा अध्यक्ष को दिया गया। केवल आठ सेकेंड का समय उन्हें और आठ सेकेंड का समय विपक्ष के अन्य नेताओं को मिला।

आजाद ने इस मामले की सर्वदलीय समिति से जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि यह राज्यसभा टीवी है, इसे भाजपा टीवी मत बनाइए। हालांकि इसके बाद पीठासीन उपसभापति सत्य नारायण जाटिया ने कहा कि इस संबंध में सभापति से बातचीत की जानी चाहिए।

वहीं समाजवादी पार्टी के सदस्य नरेश अग्रवाल ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि राज्यसभा टीवी भारतीय जनता पार्टी का टीवी बन गया है।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

आपको 'फैमिली टाइम विद कपिल शर्मा' शो कैसा लगा?

'कॉमेडी नाइट्स...' की तुलना में खराब

नया फॉर्मैट अच्छा लगा

अभी देखा नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com