चीन के चलते भारत के छोटे-मझोले अखबारी समूहों पर मंडराया संकट

चीन के चलते भारत के छोटे-मझोले अखबारी समूहों पर मंडराया संकट

Thursday, 15 March, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

अखबारों की छपाई के लिए आयात किया जाने वाला कागज (न्यूजप्रिंट) अब महंगा हो गया है। इसकी कीमतों में 40 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है, जोकि यह 52 हजार रुपए प्रति टन तक पहुंच गई है। वहीं 6 महीने पहले तक इसकी कीमत करीब 37 हजार रुपए प्रति टन थी।

जानकारों की मानें तो यह कीमत पिछले छह माह के दौरान बढ़ी है, या यूं कहें कि अक्टूबर 2017 से इसमें तेजी का दौर शुरू हुआ और इस समय इसके दाम 52,000 रुपए प्रति टन का का आंकड़ा छू चुके हैं। वहीं पिछले साल की शुरुआत में अखबारी कागज 33,500 रुपए प्रति टन की दर से आयात हो रहा था, जबकि इसमें डिलीवरी की लागत जोड़ देने पर दाम 36,000 से 37,000 रुपये प्रति टन तक पहुंच जाते थे, लेकिन अब इसके दाम आसमान पर पहुंच गए, जिससे छोटे-मझोले अखबारों पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।

 दरअसल, अखबारी कागजों के दाम बढ़ने की मुख्य वजह अमेरिकी और यूरोपीय कंपनियों का चीन के अखबारी कागज की आपूर्ति से बढ़ा देना है, क्योंकि चीन इसके लिए उन्हें अधिक कीमत दे रहा है। इसके अलावा यूरो भी लगातार महंगा हो रहा है, जिससे यूरोपीय कंपनियों का मार्जिन घट गया है, इसलिए वे ज्यादा दाम मांग रही हैं। चीन के लिए आपूर्ति बढ़ने से भी भारत को होने वाले अखबारी कागज के निर्यात में कमी आई है।

वहीं दूसरी तरफ दुनिया भर में अखबारी कागज के उत्पादन और मांग में गिरावट भी देखने को मिल रही है और इस वजह से अमेरिका में अखबारी कागज बनाने वाली कुछ कंपनियां भी बंद हो गईं हैं, जिसके चलते यहां उत्पादन पहले के मुकाबले कम हो गया है। लेकिन वहीं भारत की बात करें तो यहां पिछले पांच साल में अखबारी कागज का आयात बढ़ा है। 2012 में यह 12.39 लाख टन था जबकि 2016 में 14.33 लाख टन पर पहुंच गया है।

बता दें कि भारत में हर साल करीब 28 लाख टन अखबारी कागज की जरूरत पड़ती है, लेकिन इसका घरेलू उत्पादन महज 13 से 14 लाख टन है और यही वजह है कि इसकी आधी जरूरत आयात से पूरी होती है।

वहीं संयुक्त राष्ट्र के फूड एवं एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन (एफएओ) के आंकड़ों पर नजर तो पता चलता है कि साल 2013 में 289.6 लाख टन उत्पादन के मुकाबले अखबारी कागज की मांग 287.4 लाख टन रही। 2014 में उत्पादन गिरकर 269.6 लाख टन पर आ गया। खास बात यह है कि मांग भी उत्पादन के सापेक्ष कम होती जा रही है। 2014 में अखबारी कागज की मांग महज 268.6 लाख टन ही रही। 2015 में यह आंकड़ा और गिरकर 248.6 लाख टन पर आ गया। हालांकि उस वर्ष मांग उत्पादन के लगभग बराबर रही। 2016 में मांग के मुकाबले उत्पादन कम रहा। यहां 239.6 लाख टन की मांग के मुकाबले उत्पादन 239.4 लाख टन ही हुआ।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com