देश के युवाओं की प्राथमिकता को समझता नहीं है ये न्यूज चैनल...

देश के युवाओं की प्राथमिकता को समझता नहीं है ये न्यूज चैनल...

Monday, 22 January, 2018

रोहित देवेंद्र शांडिल्य

न्यूज एडिटर, दैनिक भास्कर ।।

पत्रकार बिरादरी के जेम्स बांडों को ये बात मालूम होती है कि कौन सा संस्थान घाटे पर है, कहां मुनाफा बढ़ा है। कहां किसको निकाला जा रहा है, कहां छटनी हो रही है और कहां बहाली। इन्हीं जेम्स बांडों के मुताबिक एनडीटीवी घाटे में है। यदि ऐसा है तो कोई आश्चर्च नहीं होना चाहिए। ये टीवी देश के युवाओं की प्राथमिकताएं नहीं समझता।

देश के युवा हज पर मिलने वाली रियायत पर बात करना चाहते हैं, वो तीन तलाक पर सरकार के रुख को मुल्लाओं की हार पर बात करना चाहते हैं, वो इस बात पर बहस चाहते हैं कि नेहरु ही देश में एड्स लेकर आए थे। वे इस बात पर चर्चा चाहते हैं कि 2014 के बाद देश के हिंदुओं ने अपने ही देश में पहली बार सेफ फील किया है। कुछ और प्रॉयरटी भी हैं। भक्तों को टक्कर देने के लिए कुछ नए लोग फोटोशॉप सीख रहे हैं। वह 'विकास पागल हो गया' जुमला के लोकप्रिय हो जाने पर बहस चाहते हैं। कुछ 'छोटे ऊवैसी और बड़े ऊवैसी' की स्पीच को डाउनलोड करके एकांत में सुनकर खुद में जोश भरते हैं। कुछ पदमावत को अपनी मां बताते हैं, वहीं पैदा करने वाली मां इस बात के इंतजार में रहती है कि उनका बेटा उनके पास घड़ी दो घड़ी बैठ ले। देश के युवा देश के लिए खून बहाना चाहते हैं। सड़क रंग देना चाहते हैं।

और आप क्या करते हैं? इन युवाओं के लिए आप अपने प्राइम टाइम में नौकरी के आंकड़े पेश करते हैं। बताते हैं नौकरी क्यों जरुरी है। जिस समय बाकी चैनल बगदादी को मार रहे होते हैं या विधवा हुई सैनिकों की बीवियों का मार्मिक इंटरव्यू ले रहे होते हैं उस समय यूनीविर्सटी शिक्षा पर सीरिज चला रहे होते हैं।  

वंदे मातरत पर गर्मा गर्म बहस कराने के बजाय ये कभी जहरीली हो रही हवा पर बात करते हैं तो कभी यमुना के खराब होते पानी से उगने पर तरकारियों पर। और तो और ये कभी कभी जोकरो को चेहरा पोत कर बैठा देता है तो कभी स्क्रीन काली कर देता है। इस टीवी को बंद कर देना चाहिए। पिछले तीन साल में मैं यूपी के जिन जिन होटलों में रुका हूं यदि वहां टीवी कनेक्शन लोकल रहा है तो एनडीटीवी वहां पहले ही बंद किया जा चुका है। ये प्रैक्टिस पूरे देश के साथ होनी चाहिए। देश के युवाओं की प्राथमिकता को समझता नहीं है ये टीवी...

(साभार: फेसबुक वाल से)

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



Copyright © 2017 samachar4media.com