टीवी पर Too Much श्रीदेवी को लोगों ने किया ट्रोल...

Monday, 26 February, 2018

एक तरह चैनल की रिपोर्ट दर्शकों को रुलाने के लिए कह रही है कि श्रीदेवी की अभी उम्र ही क्या थी, उन्होंने देखा ही क्या था, उनकी बेटियों से मां का सहारा छिन गया और ये कहने के अगले ही सेकेंड में आप उनकी फिल्मों के गाने चलाने लगते हो। क्या किसी की मौत की खबर के बीच मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां चलाना इसलिए जस्टिफाइ हो जाता है क्योंकि वो उनकी फिल्म का गाना था?’ ये सवाल उठाया युवा पत्रकार नीरज बधवार ने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट के जरिए। उनका पूरा पोस्ट आप यहां पढ़ सकते हैं-   

मौत की खबर और मीडिया की भावनात्मक कंगाली

श्रीदेवी की मौत के बाद जिस तरह से मीडिया में इसकी कवरेज हो रही है वो एक बार फिर से मीडिया संस्थानों की कमअक्ली और संवेदनहीनता को उजागर करता है। उनकी फिल्मों के नाम को लेकर मौत की खबर में घटिया तुकबंदियां बिठाई जा रही है। फिर चाहे वो तुकबंदी कितनी भी रचनात्मक क्यों न हो वो खबर की गंभीरता कम करती है। किसी की मौत आपके लिए अपनी रचनात्मकता दिखाने का मौका या मंच नहीं होनी चाहिए। मौत की खबर को सीधे सरल तरीके से बताना चाहिए। 'सदमा' देकर चली गई 'चांदनी' जैसी बचकानी तुकबंदियां बिठाकर आप दर्शकों को या पाठकों को ये बताना चाहते हैं कि देखो-देखो मैंने कैसे उसकी फिल्मों के दो नाम जोड़कर पूरे मूड को समेट लिया। नहीं भाई, ऐसे मौके पर इस तरह की तुकबंदी निहायत ही ओछापन है।

एक तरह चैनल की रिपोर्ट दर्शकों को रुलाने के लिए कह रही है कि श्रीदेवी की अभी उम्र ही क्या थी, उन्होंने देखा ही क्या था, उनकी बेटियों से मां का सहारा छिन गया और ये कहने के अगले ही सेकेंड में आप उनकी फिल्मों के गाने चलाने लगते हो।

क्या किसी की मौत की खबर के बीच मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां चलाना इसलिए जस्टिफाइ हो जाता है क्योंकि वो उनकी फिल्म का गाना था? क्या श्रीदेवी के घरवाले उन्हें याद करते वक्त इन गानों के बारे में सोच रहे होंगे? या उनसे जुड़ा कोई भी शख्स ऐसे मौके पर गाना सुनना चाहेगा? और अगर वो (परिवारवाले) नहीं सुनना चाहेंगे जो सबसे ज़्यादा दुखी हैं, तो आपने ये कैसे मान लिया कि आम लोगों के लिए उनकी फिल्मों के गाने सुनना बेहद जरूरी है।

हकीकत तो ये है कि आपको श्रीदेवी की मौत से कोई सरोकार है ही नहीं। उनकी मौत आपके लिए उनसे जुड़ी दस कहानियां, उनके दस बेहतरीन गानें सुनाने का एक मौका भर है। क्योंकि जब आप ये कहते हैं कि उन्होंने अभी देखा ही क्या था, तो आप अफसोस व्यक्त नहीं करते बल्कि ऐसी सस्ती पंक्तियां लिखकर लोगों को भावुक करना चाहते हैं। और अगर मौत को दुखद मानते ही हैं (जो कि थी भी ) तो दुख की इस घड़ी में बार-बार गाने क्यूं सुना रहे हैं?

आप उनकी मौत की खबर दिखाइए, उनके साथ काम कीजिए कलाकारों से बात कीजिए, उनकी फिल्मों के दृश्य भी दिखाइए मगर हर थोड़ी देर में उनसे जुड़े गाने सुनाने का क्या औचित्य है? उनकी फिल्मों के टाइटल जोड़कर घटिया तुकबंदियां बिठाने का क्या मतलब है?

जब हम किसी दंगे में किसी की मौत पर बयानबाजी करने पर नेताओँ को कोसते हैं कि उन्हें मौत से कोई सरोकार नहीं वो सिर्फ अपनी राजनीति चमका रहे हैं, तो ऐसी मौतों के वक्त संवेदनहीनता दिखाकर मीडिया भी तो वही करता है।

नेता मौत पर बयानबाजी करके राजनीति चमकाते हैं, तो आप किसी की मौत पर चित्रहार चलाकर अपना धंधा चला रहे हैं।

किसी हादसे में किसी के बच्चे की मौत हो जाती है, किसी शहीद जवान की बीवी बिलख रही होती है और आप रोते परिवारवालों के आगे माइक करके पूछने लगते हैं कि कैसा लग रहा है?

क्या किसी के दुख की निजता की इसलिए परवाह न की जाए क्योंकि वो आम आदमी है? क्या हमें ये समझ नहीं है कि इतने गहरे दुख के वक्त इंसान अकेला रहना चाहता है। जो इंसान रो-रोकर पागल हो रहा है वो आपसे भला कैसे बात करेगा? क्या उसकी इस स्थिति का सम्मान करते हुए उसे अकेला नहीं छोड़ देना चाहिए। क्या हमारे लिए उसकी 'बाइट' उसकी दुख से ज़्यादा बड़ी है?

जब टीवी शुरुआती तौर पर ऐसी गलतियां करता था, तो दलील दी जाती थी कि ये माध्यम अभी बाल अवस्था में है, इसे मैच्योर होने का वक्त दीजिए मगर अब तो ये बालिग भी हो गया और इसे चलाने वाले संपादक अधेड़ हो गए पर क्या किसी में इतनी भावनात्मक समझदारी नहीं आई। दिक्कत ये है कि जब हमें किसी गैरजरूरी मुद्दे पर चार लोगों को बुलाकर भिड़वाना होता है, तो वहां भड़काने से काम चल जाता है? किसी गैरजरूरी मूर्खता को असल खबर बताकर सनसनी पैदा करना भी मुश्किल नहीं है मगर जहां मौत की बात आती है वहां आप निहत्थे हो जाते हैं। उस स्थिति से निपटने की बौधिक तैयारी आपकी होती नहीं और इन खबरों के ट्रीटमेंट में आप उसी 'पैंतरेबाजी' से काम लेते हैं जो पत्रकारिता में आने के बाद आपने सीखी थी और फिर वही होता है जो अब हो रहा है।

(पत्रकार नीरज बधवार की फेसबुक से साभार)

#कहीं चिता पर ना लिटा दें रिपोर्टर को...

श्रीदेवी की मौत पर कल सवेरे से बुरी तरह बौराये न्यूजचैनलों की दीवानगी आज चरम पर पहुंच चुकी है। सारे चैनल बदलकर देख चुका। सारी खबरें गायब हैं। सिर्फ और सिर्फ श्रीदेवी की शवयात्रा छायी हुई है। हवाईअड्डे से लेकर श्रीदेवी के घर और श्मशान तक न्यूजचैनलों के दर्जनों रिपोर्टरों की फौज जूझ रही है।

श्रीदेवी की मौत पर न्यूजचैनलों पर छाए इस जुनून और जज्बे को देखकर मुझे तो यह आशंका सत्ता रही है कि ये न्यूजचैनल कहीं अपने किसी रिपोर्टर को श्रीदेवी के साथ चिता पर लेटकर #सती होने की ड्यूटी पर भी तैनात ना कर दें.? ताकि श्रीदेवी चिता पर कैसा महसूस कर रही है, रिपोर्टर इसकी खबरे भी भेज सके।

(नितिन खन्ना की फेसबुक वॉल से )


 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com