पढ़िए, मोदी की इस बड़ी मुहिम में कैसे जुड़े एंटरटेनमेंट चैनल्स

Monday, 28 November, 2016

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GECs) हमेशा से उसी ट्रैक पर चलते हैं जो इस समय बाजार में ट्रेंड कर रहा होता है। मार्केट में चल रहे इसी ट्रेंड को वह अपने शो में दिखाने का प्रयास करते हैं। आजकल मार्केट में नोटबंदी (demonetisation) का मामला छाया हुआ है ऐसे में सभी चैनल अपने शो में इसी मसले को उठा रहे हैं। प्रमुख चैनल जैसे ‘ZEE’ और ‘Colors’ आदि भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा काला धन बाहर निकालने की इस मुहिम में उनके साथ खड़े हुए हैं।

’ &TV’s’ पर आने वाला शो ‘भाभीजी घर पर हैं’ (Bhabiji Ghar Par Hain) और ‘ZEE TV’ पर आने वाला शो ‘जिंदगी की महक’ (Zindagi Ki Mahek) एवं ‘जमाई राजा’(Jamai Raja) अथवा ‘Sab TV’ पर आने वाला शो ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) व ‘चिडि़याघर’ (Chidiya Ghar) आदि शो में सभी नोटबंदी के मुद्दे को ही दिखा रहे हैं। यही हाल प्रादेशिक चैनलों (regional general channels) का है। वहां पर भी यही मुद्दा छाया हुआ है।

यदि इन शो को देखें तो इनमें भी वही बात दिखाई जा रही हैं कि लोगों के अंदर नोटबंदी को लेकर किस तरह की बेचैनी और बेकार का डर है। इन शो के माध्‍यम से चैनल लोगों को यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि लोग इस बात से घबराएं नहीं। शुरुआत में थोड़ी परेशानी जरूर हो रही है लेकिन आने वाले समय में इसके काफी फायदे होंगे।

66823_1

66823_2

उदाहरण के लिए, ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ सीरियल में मुख्‍य किरदार जेठालाल अपने लाखों रुपयों को लेकर घबरा जाता है और उसे समझ में नहीं आता कि इन पैसों का क्‍या करे, वहीं ‘देवांशी’ सीरियल में छोटी बच्‍ची पांच सौ रुपये का पुराना नोट लेकर अपनी मां के लिए गिफ्ट खरीदने जाती है, लेकिन बाजार में उसे पता चलता है कि अब पांच सौ रुपये का पुराना नोट नहीं चलेगा। यहां पर दुकानदार उसे बताता है कि प्रधानमंत्री ने यह कदम इसलिए उठाया है ताकि कालाधन निकलकर बाहर आ सके।

इन दिनों विभिन्‍न सीरियल्‍स में नोटबंदी का मुद्दा उठाए जाने के कारणों के बारे में ‘Onspon.com’ के संस्‍थापक और सीईओ हितेश गोसाईं (Hitesh Gossain) का कहना है, ‘यह बिल्‍कुल उसी तरह है, जिस तरह आप क्रिकेट का कोई बड़ा मैच देखना चाहते हैं। आप अपने शो में वही कंटेंट रखना चाहते हैं जो मार्केट में चल रहा है ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा दर्शक उससे जुड़ सकें। जैसा कि सुना जा रहा है कि अधिकांश लोग नोटबंदी के समर्थन में हैं तो टीआरपी (TRP) बढ़ाने का यह सबसे अच्‍छा मौका है। हालां‍कि इस तरह की कवायद का फायदा आने वाले समय में ज्‍यादा नहीं मिलेगा क्‍योंकि यह मुद्दा पुराना हो जाएगा।’

‘Contiloe’ के सीईओ अभिमन्‍यु सिंह का भी कुछ यही मानना है। अभिमन्‍यु का कहना है, ‘समाज में जो ट्रेंड कर रहा होता है, उस पर शो दिखाने से टीआरपी में बढ़ोतरी होती है। चैनल अपने शो के माध्‍यम से समाज में वर्तमान में चल रही चीजों को लेकर दर्शकों का मनोरंजन तो करते ही हैं, साथ ही उन्‍हें उस मुद्दे के प्रति जागरूक भी करते हैं।’

इस बारे में ‘MediaCom’ के नेशनल डायरेक्‍टर (Buying) के श्रीनिवास राव का कहना है, ‘अधिकांश जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्‍स अपने शो में वहीं मुद्दा उठाते हैं जो उन दिनों समाज में चल रहा होता है। ऐसा करके वे लोगों को अपने शो से जोड़़े रखना चाहते हैं। एक तरफ तो वे नई रिलीज होने वाली मूवी का प्रचार करते हैं और दूसरी तरफ वे लोगों को मार्केट में ट्रेंड कर रही चीजों के बारे में बताते हैं। इस तरह दोतरफा फायदा होता है। दर्शक इस कंटेंट को अपनी दिनचर्या से जोड़कर देखने लगते हैं और चैनलों को अपनी बात उन तक पहुंचाने में मदद मिल जाती है। इसके साथ ही चैनल को किसी ब्रैंड को स्‍थापित करने में भी काफी मदद मिलती है जिस तरह से आज के हालात में ‘Paytm’ और ‘credit cards’ को बढ़ावा दिया जा रहा है।’

हालांकि इस तरह का ट्रेंड सिर्फ एंटरटेनमेंट चैनलों पर ही नहीं छाया हुआ है बल्कि मूवी चैनल भी इसी का फॉलो कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, ‘Zee Cinema’ ने एक नया कैंपेन ‘Share the Change, be the change’ शुरू किया है। ताकि लोग आगे बढ़कर ऐसे लोगों की मदद कर सकें जिन्‍हें तुरंत कैश की जरूरत है। कई बॉलिवुड मूवी और फिल्‍मी सितारे भी लोगों को इस मुहिम से जुडने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com