Amul के विज्ञापन को लेकर कोर्ट पहुंचा हिन्दुस्तान यूनीलिवर

Tuesday, 28 March, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

गर्मी ने दस्तक दे दी है और टीवी चैनलों पर आइसक्रीम ब्रैंड्स के विज्ञापन भी नजर आने लगे हैं। लेकिन ऐसे में आइसक्रीम ब्रैंड्स के बीच तनातनी की खबरें सामने आ रही हैं। अमूल के एक टीवी विज्ञापन को लेकर हिन्दुस्तान यूनिलीवर और वाडीलाल ग्रुप ने मुकदमा दायर किया है।

यहां बता दें कि हिन्दुस्तान यूनिलीवर क्वॉलिटी वॉल्स के नाम से आइसक्रीम बेचती है। कंपनी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में मामला दायर कर अमूल के नए टीवी विज्ञापन को भ्रामक बताया है और तुरंत ही इसे हटाने की मांग भी की है।

दरअसल, अमूल के इस विज्ञापन में ग्राहकों से फ्रोजन डेजर्ट नहीं बल्कि अमूल आइसक्रीम खरीदने के लिए कहा जा रहा है। इसमें कहा गया है कि फ्रोजन डेजर्ट वेजिटेबल ऑयल से बनाए जाते हैं जो स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक है।

वहीं अमूल ब्रैंड की स्वामित्व वाली कंपनी गुजरात मिल्‍क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) के मैनेजिंग डायरेक्‍टर आरएस सोढ़ी ने कहा कि हिन्दुस्तान यूनिलीवर की याचिका केवल एक स्‍टंट है। एचयूएल, जो फ्रोजन डेजर्ट का निर्माण करती है, ने हमारे नए टीवी विज्ञापन को चुनौती दी है जिसका मकसद ग्राहकों को आइसक्रीम और फ्रोजन डेजर्ट के बीच अंतर बताना है। फ्रोजन डेजर्ट का निर्माण वेजिटेबल ऑयल से किया जाता है, जबकि आइसक्रीम का निर्माण मिल्‍क फैट से होता है।

एफएसएसएआई ने भी वेजीटेबल ऑयल से निर्मित आइसक्रीम को फ्रोजन डेजर्ट की श्रेणी में रखा है। सोढ़ी ने कहा कि एफएसएसएआई ने भी अमूल को ग्राहकों को अपने प्रोडक्‍ट के बारे में जानकारी देने के लिए कहा है और मुझे नहीं लगता कि हम इसमें कुछ गलत कर रहे हैं।

यहां देखें विवादित ऐड :

मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

पोल

आपको समाचार4मीडिया का नया लुक कैसा लगा?

पहले से बेहतर

ठीक-ठाक

पहले वाला ज्यादा अच्छा था

Copyright © 2017 samachar4media.com