ऐड वर्ल्ड, टेक वर्ल्ड

2013 तक भारत में मोबाइल विज्ञापन 250 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा

0 1
s4m

द मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन और एक्सचेंज4मीडिया समूह ने एक साझा मोबाइल एडवरटाइजिंग रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि भारत में मोबाइल विज्ञापन पर वर्तमान में 180 करोड़ रुपये (33 मिलियन अमेरिकी डॉलर) हो रहा है जो अगले एक साल में 40 प्रतिशत बढ़कर 250 करोड़ रुपये हो जायेंगे। रिपोर्ट को द लीला केंपिन्सकी, गुड़गांव में मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन फोरम (एमएमएएफ) इंडिया 2012 के उद्घाटन समारोह में किया गया।

रिपोर्ट के अनुसार, इंडस्ट्री के लीडर्स का मानना है कि ब्रांड्स और एजेंसी के संकेत के अनुसार, भारत में, संपूर्ण डिजिटल एडवरटाइजिंग का 10 प्रतिशत मोबाइल एडवरटाइजिंग पर खर्च होता है। एमएमए का मानना है कि भारत में 12 करोड़ से ज्यादा उपभोक्ता मोबाइल इंटरनेट का उपयोग करते हैं। भारत में, बहुत से, एडवरटाइजर्स अभी तक इस माध्यम को अपना नहीं सके हैं, जो इंडस्ट्री के एक अनुमान के अनुसार, 27 हजार से लेकर 28 हजार करोड़ रुपये (5बिलियन अमेरिकी डॉलर से लेकर 5.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक) तक है। अभी तक मात्र 5 से 7 प्रतिशत एडवरटाइजर्स ही इस माध्यम का उपयोग करते हैं। एक्सचेंज4मीडिया समूह के द्वारा यह रिपोर्ट ब्रांड्स, एजेंसीज और मोबाइल इकोसिस्टम के सितबंर 2012 में गहन अध्ययन के बाद जारी किया है।

इस अवसर पर, एमएमए, एशिया-पैसिफिक के मैनेजिंग डायरेक्टर, रोहित धारिवाल ने कहा, मोबाइल का काफी तेजी से विकास हो रहा है, लेकिन एड के क्षेत्र में अभी इसका हिस्सा बहुत कम है। मोबाइल एडवरटाइजिंग का विकास इतनी तेजी से हो रहा है कि यह अन्य चैनलों के लिए जल्द ही एक चुनौती के तौर पर उभरेगा। भारत में रिसर्च के दौरान हमें पता चला कि विज्ञापन पर बढ़ता खर्च और मोबाइल का निरंतर विकास, पारंपरिक मीडिया पर एडवरटाइजिंग में खर्चे को जोड़ने का काम कर रहा है। हम लोग पहले से ही डिजिटल पर खर्चे को ऑस्ट्रेलिया जैसे देश में पारंपरिक मीडिया पर खर्चे से आगे निकल चुके हैं। और यह मार्केट के विकास को दिखाता है।

इस रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए, एक्सचेंज4मीडिया समूह के चेयरमैन एंड एडिटर-इन-चीफ, अनुराग बत्रा ने कहा, इस तरह का रिपोर्ट, भारत में मोबाइल एडवरटाइजिंग की तेज गति को बताता है। हम महसूस करते हैं कि मार्केटिंग माध्य में, मोबाइल को एक चुनौती का सामना करना पड़ रहा है और इस पर सोचने की जरूरत है। इस क्षेत्र में जिन लोगों ने निवेश किया है और पैसा बनाया है वे इसे समझ सकते हैं। मोबाइल एडवरटाइजिंग जल्द ही भारत में मोबाइल मार्केटिंग का एक हिस्सा बन जाएगा।

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि कई बड़े एडवरटाइजर्स भारत में अपने कुल विज्ञापन बजट का 10 से लेकर 25 प्रतिशत तक खर्च करते हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।