Exclusive: अमर उजाला के कंसल्टिंग एडिटर यशंवत व्यास से खास बातचीत...

Saturday, 15 October, 2016

abhishek mehrotra thumbअभिषेक मेहरोत्रा

संपादकीय प्रभारी, समाचार4मीडिया डॉट कॉम ।।

हिंदी पत्रकारिता की दुनिया का मशहूर अखबार 'अमर उजाला' ने पिछले पखवाड़े में अपने प्रारूप यानी लेआउट में एक बड़ा परिवर्तन किया है। नए प्रारूप को लेकर पाठकों में अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं हैं। अखबार को नया स्वरूप देने का श्रेय जाता है संस्थान के सलाहकार संपादक यशवंत व्यास को

yvसमाचार4मीडिया से बात करते हुए यशवंत व्यास कहते हैं कि अखबार कंटेंट और लेआउट के तालमेल का ऐसा स्वरूप होता है जो पाठकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। जिस तरह हम बॉडी, मांइड, सोल(Body, Mind. Soul) के तारतम्य बात करते हैं उसी तरह अखबार के लिए कंटेंट, लेआउट और फॉन्ट का तालमेल जरूरी होता है। वे कहते हैं कि लेआउट को सिर्फ अखबार की सौंदर्यता से नहीं जोड़ना चाहिए। अखबार का लेआउट इस तरह का होना चाहिए कि वो पाठक की प्यास को पूरा कर सके।

यशवंत कहते हैं कि अपने शुरुआती करियर के जमानें से ही वह कंटेंट के साथ-साथ लेआउट और डिजाइनिंग को भी बारिकी से समझते रहे हैं। वे कहते हैं कि अखबार के लेआउट में बदलाव का मतलब ये नहीं होता है कि फलां लेआउट खराब था और फलां बहुत अच्छा। अखबार के लेआउट में बदलाव समकालीन(Comtemporary) होता है। एथिक्स, वैल्यूज के साथ जरूरतों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। किसी भी अखबार का फॉन्ट एक डिजायन नहीं एक एक्सप्रेशन है। एक अच्छा फॉन्ट आखों को अपनी ओर खींचता है। कॉलम साइज की डिजाइनिंग विजुअलाइजेशन का एक हिस्सा है। अमर उजाला की नई स्टाइल की और फॉन्ट पर बात करते हुए बताते हैं कि कई दिनों तक इस पर काम किया और इसको डेवलेप कराया तब जाकर इसका वर्तमान स्वरूप मिल सका है।

यशवंत पुरजोर तरीके से कहते हैं कि अभी तक के अनुभव से पाया है कि डिजायन को एडिटोरियल का ही हिस्सा मानना चाहिए। एक संपादक से उम्मीद की जाती है कि वे डिजायन सेंस को समझें उसमें दिलचस्पी लें। आजकल डिजायन के कई सॉफ्टवेयर हैं जिनकी जानकारी भी समय-समय पर काफी मददगार साबित होती है।

वे कहते हैं कि इस नए लेआउट की खासियत है कि इसमें गटर स्पेस में कोई बदलाव नहीं किया गया है फिर भी अखबार का कंटेंट खुला-खुला सा दिखता है। एक बड़ी बात ये है कि आजकल जब बड़े अखबारों का प्रारूप अंतरराष्ट्रीय डिजायनर्स तय करते हैं तो ऐसे में हमारे नए प्रारूप को हमारे ही यंग डिजायनर्स ने भरपूर मेहनत और क्रिएटिबिलिटी के साथ तैयार किया है कि वे पाठकों के साथ अपनी फ्रिक्वेंसी मैच कर सकें। अखबार के प्रारूप में परिवर्तन के प्रमोशन के बारे में यशवंत बताते हैं कि हमनें कोई बड़ा प्रमोशनल प्लान तय नहीं किया है। हम सिर्फ वैचारिक तौर पर अपने पाठकों के साथ संवाद कर रहे हैं। मसलन हाल ही में हमारे दो कैंपेन ‘खटिया या ख्वाब’ और ‘गोली या पत्थर’ काफी लोकप्रिय हुए। पाठकों ने हमें इस पर जमकर प्रतिक्रियाएं दी और हमने पूरा पेज पाठकों के नाम कर दिया। हम अपने रविवार परिशिष्ट पर भी खास काम कर रहे हैं। हमारे कोशिश है कि इसके तहत हम पाठकों को संडे के दिन वो सामग्री दें, जो उनके काम की हो। मसलन विभिन्न तरह के व्यंजनों की जानकारी इत्यादि। yashwant-vyasएक सवाल के जवाब में यशवंत बताते हैं कि उपलब्ध संशाधनों और मौजूदा कर्मियों से बेहतर आउटपुट निकालना एक लीडर की क्वॉलिटी है। वे अपने स्टाइल में कहते हैं कि 'सही जूते में सही पैर जाएगा' तो संतुलन अपने आप में बना रहेगा। अखबारों में बढ़ रहे सरकारी परिशिष्टों और खबरों के बीच के भेद के कम होने के सवाल पर वे तपाक से बोलते हैं कि अब अखबारों ने इतने सरकारी परिशिष्ट प्रकाशित कर दिए हैं कि पाठक सबकुछ स्वयं समझ जाता है। वे कहते हैं कि अखबार में खबरों और विज्ञापनों का एक तय अनुपात होना चाहिए। पैन्ट की कीमत पर जेब दी ही नहीं जा सकती। किसी भी अखबार का संपादकीय पेज बहुत ही अहम पेज है और पाठकों की एक निश्चित संख्या के साथ पेज की ट्यूनिंग होती है। यशवंत कहते हैं कि संपादकिय पेज को हल्का नहीं मानना चाहिए, लेकिन इस पर बौद्धिकता का भार भी नहीं उड़ेल देना चाहिए। वे बताते हैं कि उनकी संपादकीय पेज की टीम संपादकीय के शीर्षक पर काफी चर्चा करती है। हाल ही में इस पेज के प्रारूप में भी बदलाव किया गया है। सरकार और जनता के बीच नीतियों पर संवाद के महत्व को समझते हुए अमर उजाला अब हर हफ्ते देश के प्रमुख राज्य के मुख्यमंत्री का एक लेख प्रकाशित करता है, जिसमें मुख्यमंत्री अपने राज्य की नीतियों और जनता के साथ अपने सरोकारों पर बात करते हैं। अमर उजाला के संपादकीय पेज पर कई विदेशी और अंग्रेजी के लेखकों का बोलबाला रहता है, इस आरोप पर यशवंत कहते हैं कि ऐसा नहीं है। हिंदी के कई बड़े लेखक भी हमारे यहां प्रकाशित होते हैं। हां, ये जरूर है कि हमारी कोशिश रहती है कि संबंधित विषय पर उस विषय को ढंग से समझने वाले किसी विशेषज्ञ से ही लेख लिखवाया जाए। ऐसे में हम विदेशी और अंग्रेजी लेखकों के प्रति कोई दुराग्रह नहीं रखते हैं। हमारा पाठक किसी अमुक विषय पर कई आयाम के साथ विचार जानना चाहता है बजाय परम्परागत लेख के। उन्होंने कहा कि भाषा नहीं विचार का महत्व है। बड़ी संख्या में आज भी युवा वर्ग अंग्रेजी की हिंदी में डब फिल्में देखता है इसलिए लेख के विचारों में ताजगी होना जरूरी है बजाय हिंदी-अंग्रेंजी के द्वंद के। पाठकों को विचारों का विस्तार चाहिए, बोझ नहीं।

साहित्य और पत्रकारिता में कैसे सामंजस्य होता है, इस पर यशवंत जवाब देते हैं कि साहित्य अभिव्यक्ति का एक माध्यम है। साथ ही यशवंत ये भी स्पष्ट करते हैं कि वे मूलतौर पर एक पत्रकार हैं और बाद में एक साहित्यकार। बॉटनी की पढ़ाई करने वाले यशवंत बताते हैं कि साहित्य अभिव्यक्ति का ही एक मूड है।पत्रकार होने के साथ अगर आप साहित्यकार भी है, तो आप समाज की  संवेदना को भलीभांति समझ पाते है। एक अच्छा पत्रकार जरूरी नहीं कि एक अच्छा साहित्यकार हो और एक अच्छा साहित्यकार जरूरी नहीं कि एक अच्छा पत्रकार हो।

व्यंग्य पर यशवंत कहते हैं कि ये बहुत जरूरी विधा है जो बहुत कुछ ऐसा कह देती है जो आप सीधे शब्दों में नहीं कह सकते हैं। वे हरिशंकर परिसाई के व्यंग्यों की तरीफ करते हुए कहते हैं कि केंचुए ने पीढ़ियों के अनुभव से ये जान लिया था कि रीढ़ की हड्डी नहीं होनी चाहिए। बताइए, इससे बेहतर व्यंग्य क्या हो सकता है।

यशवंत कहते हैं कि हमारे जमाने के हीरो तो विनोद मेहता और प्रीतिश नंदी हुआ करते थे, मैंने उनको बहुत ऑब्जर्व किया है। किस तरह इन महान संपादकों ने कई स्वरूपों के अखबार और मैगजीन के साथ नए और लोकप्रिय प्रयोग किए।  अखबार में फोटो से किस तरह से पेश करना है कि इसके लिए संपादकीय दृष्टि होना बहुत जरूरी है।

यशवंत व्यास दिल्ली के पत्रकार नहीं हैं, लुटियन दिल्ली से उनका नाता नहीं है। इस सवाल पर वे मुस्कुराते हुए कहते हैं कि दिल्ली आता-जाता रहता हूं, वैसे भी दिल्ली किसकी हुई है? मनमोहन सिंह भी असम से थे।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com