सीएम अखिलेश से शिकायत के बाद ही यूपी पुलिस हुई एक्टिव, पत्रकार को परेशान करने वाला धरा गया

Friday, 18 September, 2015

समाचार4मीडिया ब्यूरो उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाके से महिलाओं द्वारा प्रकाशित पाक्षिक समाचार पत्र 'खबर लहरिया' की संपादक और रिपोर्टरों को अश्लील मैसेज और ब्लैक मेलिंग की धमकी देने वाले युवक को पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बुधवार को सोनभद्र जिले के घोरावल से उसे गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक राकेश शंकर ने पत्रकारों को बताया कि घोरावल के वार्ड चार से मोहम्मद इदरीश के पुत्र सद्दाम को पकड़ा गया है। आरोपी ने अलग-अलग नंबरों से कुल 280 एमएमएस किए थे। इनमें से 138 शिकायतकर्ता पत्रकार को किए। बाकी अन्य महिलाओं के नंबरों पर किए गए। पुलिस हिरासत में आरोपी ने खुद को बेकसूर बताया। कहा कि उसने कभी किसी को परेशान नहीं किया। न ही किसी को धमकाया है। युवक बुंदेलखंड के ‘खबर लहरिया’ की महिला पत्रकारों को अनजान नंबरों से लगातार अश्लील संदेश और धमकियां दे रहा था। इस मामले में जनवरी में मुकदमा दर्ज कराया गया था। नौ माह से परेशान महिला पत्रकार इधर-उधर भटक रही थी। महिला पत्रकार ने एक वेबसाइट पर जांच के नाम पर पुलिस अधिकारियों पर भी परेशान करने की बात आपबीती के रूप में लिखी थी। इसके बाद पत्रकार ने मुख्यमंत्री से शिकायत की। मुख्यमंत्री की डांट के बाद बांदा पुलिस हरकत में आई और नौ महीने बाद आरोपी को गिरफ्तार किया। ‘खबर लहरिया’ की संपादक कविता, चीफ ऑफ ऑपरेशंस मीरा, शालिनी और सुमन गुप्ता ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि महिला पत्रकारों के प्रति पुलिस का रवैया ठीक नहीं है। उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि क्या जब हर मामले में सीएम हस्तक्षेप करेंगे, तभी कार्रवाई की जाएगी? इससे पहले क्या पुलिस की अपनी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है? इसके अलावा यहां उन्होंने महिला पत्रकारों के लिए सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने की मांग की। कविता ने बताया कि उनके मोबाइल पर इस साल सात जनवरी को एक फोन आया जिस पर बात करने वाले ने अश्लीलता की हद पार दी। फिर मीरा, तबस्सुम समेत पांच पत्रकारों के नंबर पर मार्च तक लगातार और बाद में भी फोन आते रहे। 10 जनवरी को इसकी शिकायत 1090 में की गई। दूसरी तरफ से मामले को रजिस्टर कर लेने की जानकारी दी गई, लेकिन उन्हें कोई रिफरेंस नंबर नहीं दिया गया। न ही मामले की कार्रवाई की गई। उन्होंने इस संबंध में थानों के इंस्पेक्टर और डीआईजी से बात की तो उन्होंने नंबर बदलने की सलाह दी। इसी तरह से टाल-मटोल का रवैया 9 महीने तक जारी रहा। फिर 14 सितंबर को लेडीज फिंगर नामक ऑनलाइन पत्रिका में इस मामले पर लेख छपा और सोशल मीडिया पर इसके तूल पकड़ते ही प्रदेश सरकार ने पुलिस को त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया। 16 सितंबर को सद्दाम उर्फ नीशू को गिरफ्तार कर लिया गया। नीशू के पास से 40 से ज्यादा सिम कार्ड बरामद हुए हैं। यूपी का 'खबर लहरिया' अखबार एक अनूठा प्रयोग है। यह अखबार सिर्फ महिलाएं निकालती हैं और वह गांवों पर फोकस रखती हैं। मगर इस अखबार को निकालने वाली महिलाओं को जिस तरह तंग किया गया, वह हैरान करने वाला है। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Copyright © 2017 samachar4media.com