बॉम्बे हाई कोर्ट: तरुण तेजपाल को लगा झटका

बॉम्बे हाई कोर्ट: तरुण तेजपाल को लगा झटका

Wednesday, 27 September, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

तहलका के पूर्व प्रधान संपादक तरुण तेजपाल के खिलाफ मंगलवार को बॉम्बे हाई कोर्ट ने निचली अदालत में आरोप लगाने की प्रक्रिया शुरू करने की इजाजत दे दी है। साथ ही हाई कोर्ट ने इन आरोपों पर कोर्ट ट्रायल शुरू करने पर रोक लगा दी है। हाई कोर्ट ने कहा, हमारी सहमति के बाद ही मामले की सुनवाई शुरू होनी चाहिए। दरअसल, तेजपाल पर कनिष्ठ महिला सहयोगी ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था।  

तेजपाल ने उत्तर गोवा जिला एवं सत्र अदालत द्वारा आरोप तय किए जाने को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। निचली अदालत में 7 सितंबर को आरोप तय किए जाने की प्रक्रिया को चुनौती देते हुए तेजपाल के वकील अमन लेखी ने कहा कि दुष्कर्म का आरोप झूठा है। उन्होंने कहा कि अभियोजन पक्ष ने उन्हें सुबूत सौंपने में तीन वर्षों की देरी की।

वहीं अभियोजन पक्ष के वकील सारेश लोतलिकर ने इसके जवाब में कहा कि केवल ट्रायल में ही पत्रकार के खिलाफ लगाए गए आरोपों की सच्चाई स्थापित हो सकेगी। दोनों पक्षों को सुनने के बाद जस्टिस पृथ्वीराज चवन ने निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट से मंजूरी लेने के बाद ही निचली अदालत में गवाही दर्ज हो सकेगी।

इस मामले में तेजपाल भादवि की धारा 341 (जबरन रोकने), 342 (जबरन बंधक बनाने) और धारा 376 (दुष्कर्म) के तहत आरोपों का सामना कर रहे हैं। इसके अलावा धारा 354 (बी) (नग्न करने की नीयत से आपराधिक हमला करना) भी जोड़ी गई है।

गौरतलब है कि पूर्व प्रधान संपादक पर नवंबर 2013 में उत्तर गोवा के एक होटल में अपनी कनिष्ठ महिला सहयोगी पर यौन हमला करने का आरोप है।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com