अंग्रेजी की इस चर्चित मैगजीन के संस्थापक का हुआ निधन...

अंग्रेजी की इस चर्चित मैगजीन के संस्थापक का हुआ निधन...

Thursday, 28 September, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

अमेरिका की चर्चित मैगजीन ‘प्लेबॉय’ के फाउंडर ह्यू हेफनर का गुरुवार को निधन हो गया। वे 91 साल के थे। प्लेबॉय एंटरप्राइजेस ने बयान जारी कर बताया कि 91 साल के हेफनर का उनके घर 'प्लेबॉय मेंशनमें निधन हुआ है।

हेफनर काफी समय से बीमार थे। अगस्त में 'प्लेबॉयके सालाना प्रोग्राम से भी वे दूर रहे थे। रेड स्मोकिंग जैकेट और मुंह में पाइप हेफनर की पहचान थी। उनका जन्म शिकागो में हुआ था। उनके पिता एक स्कूल टीचर थे। हाई स्कूल के बाद ह्यू ने क्लर्क के रूप में आर्मी जॉइन की थी। ह्यू एस्क्वॉयर मैगजीन में कॉपी राइटर भी रहे।

बता दें कि हेफनर के परिवार में उनकी वाइफ क्रिस्टल (31) और तीन बेटे क्रिस्टी (64)डेविड (62) और मार्शटन कूपर (26) हैं।

हेफनर ने प्लेबॉय मैगजीन की शुरुआत 60 साल पहले 1953 में की थी। ये मैगजीन अपने कॉन्टेंट को लेकर पुरुषों के बीच काफी लोकप्रिय है। प्लेबॉय एंटरप्राइसेस अब टेलिविजन नेटवर्कवेबसाइट्समोबाइल प्लेटफॉर्म्स और रेडियो के जरिए शौकीनों तक एडल्ट कंटेंट पहुंचा रहा है।

मैगजीन लॉन्च के 7 साल बाद हेफनर ने प्लेबॉय क्लब की शुरुआत की। कहा जाता है कि हेफनर बर्टन ब्राउन के गैसलाइट क्लब से प्रभावित थेजिसके बाद उन्होंने इसकी शुरुआत की थी। शुरुआत में इस क्लब की सालाना मेंबरशिप फीस 25 डॉलर थी। इसकी सफलता और बढ़ती लोकप्रियता के बाद हेफनर ने लंदनजमैकन्यूयॉर्कलॉस एंजिल्सडेट्रायटसैन फ्रांसिस्कोबोस्टनडेस मोइन्सकनास सिटी और सेंट लुइस और लाग वेगास में क्लब खोले गए। इसके बाद भी दुनियाभर के कई शहरों में प्लेबॉय क्लब खोले गए।

इस मैगजीन की जो चीज लोगों का ध्यान सबसे ज्यादा खींचती हैवो है इसमें छपने वाली तस्वीरें और आर्टिकल्स। बताया जाता है कि हेफनर ने इस मैगजीन की शुरुआत 1600 डॉलर से की थी। इसमें से उनके पास 600 डॉलर थे और 1000 डॉलर उन्होंने अपनी मां से उधार लिए थे। 1953 में जब कानूनी तौर पर गर्भनिरोधक गोलियों को प्रतिबंधित किया जा सकता था और उस समय के मशहूर टेलिविजन प्रोग्राम 'आई लव लूसीमें गर्भवती शब्द इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं दी गई थी। ऐसे समय में हेफनर ने प्लेबॉय का पहला अंक निकाला था। इसमें मर्लिन मुनरो की निर्वस्त्र तस्वीर प्रकाशित की गई थी। हालांकि यह तस्वीर पुरानी थीलेकिन फिर इसे देख पूरे अमेरिका में हंगामा मच गया और देखते-देखते प्लेबॉय खासतौर पर युवाओं की पहली पसंद बन गई।

2015 में प्लेबॉय ने महिलाओं की निर्वस्त्र तस्वीरों का प्रकाशन इंटरनेट का हवाला देते हुए बंद कर दिया। हेफनर ने मनोरंजन की दुनिया में अपना मल्टीमीडिया सम्राज्य स्थापित किया थाजिसमें क्लबबड़ी हवेलियांफिल्में और टेलिविजन शो शामिल थे। उन्होंने टेलिविजन शो 'प्लेबॉय आफ्टर डार्ककी मेजबानी भी की थी।

साइकोलॉजी के स्‍टूडेंट रह चुके हैं हेफनर

'प्‍लेबॉयपत्रिका के एडिटर ह्यूग हेफनर मनोविज्ञान के स्‍टूडेंट रह चुके हैं। हरफनमौला हेफनर ने 'प्‍लेबॉयके लोगो के रूप में चुना रैबिट। हेफनर ने एक इंटरव्‍यू में इस लोगो के बारे में खुसाला किया था। उन्‍होंने कहा था कि रैबिट एक ऐसा जन्‍तु हैजो अमेरिका में ‘सेक्‍स’ से जोड़कर देखा जाता है। उनकी नजर में यह फुर्तीला हैचतुर हैशर्मीला है और इधर-उधर कूदने वाला सेक्‍सी और हॉट है।

डायरी में नोट करते थे किससे बनाए संबंध

मैडिसन के अनुसारहेफनर अपने घर में आने वाली हर लड़की का फोटो रखते थे। यही नहींवह एक डायरी मेंटेन करते थे जिसमें किसके साथ रिश्ते बनेइसकी जानकारी होती थी। ह्यूज हेफनर को तो याद ही नहीं था कि वह अब तक कितनी औरतों के साथ रिश्ते बना चुके हैं। डेली मिरर में छपी एक रिपोर्ट में हेफनर ने बताया था कि वह बहुत पहले ही गिनती करना बंद कर चुके हैं। वह क्वॉन्टिटी नहीं बल्कि क्वॉलिटी में यकीन रखते हैं। एक अनुमान के मुताबिक, वह 5000 औरतों के साथ संबंध बना चुके थे।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com