2 अक्टूबर को होगा मीडियाकर्मियों का विरोध प्रदर्शन... 2 अक्टूबर को होगा मीडियाकर्मियों का विरोध प्रदर्शन...

विभिन्न मांगो को लेकर पत्रकारों ने दिया महाधरना...

Saturday, 26 November, 2016

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

बिहार में पटना के गर्दनीबाग में इंडियन जर्नलिस्ट असोसिएशन (बिहार) ने पत्रकारों के विभिन्न समस्याओं को लेकर धरना प्रदर्शन किया। असोसिएशन ने पत्रकारों पर हो रहे लगातार हमले पर रोक लगाने, पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने, पत्रकार धर्मेन्द्र हत्या की सीबीआई जांच कराने, पत्रकार स्वास्थ्य बीमा योजना निःशुल्क करने की मांग की।

असोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष रामनाथ विद्रोही के अध्यक्षता में यह एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया।

इंडियन जर्नलिस्ट असोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेराज अहमद कुरैशी ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि आए दिन पत्रकारों पर हो रहे हमले से सूबे के पत्रकारों में भय का माहौल बना हुआ है। ऐसे में स्वच्छ पत्रकारिता की बातें करनी बेईमानी है। बिहार मे अपराधियों का मनोबल काफी बढ़ चुका है और अब वे लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ पत्रकारों की स्वतंत्रता पर लगाम लगाने की साजिश रच रहे हैं? आखिर सरकार कब जागेगी?

उन्होंने आगे कहा कि लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ की स्वतंत्रता और उसकी सुरक्षा को लेकर देश भर के पत्रकारों ने सड़क पर उतरने के लिए अपनी कमर कस ली है।

इंडियन जर्नलिस्ट असोसिएशन के प्रदेश महासचिव डॉ. दयानन्द भारती ने धरना को संबोधित करते हुए कहा कि सुनिए सरकार जी हम पत्रकार धरना के माध्यम से आपसे लड़ने नही आए है, हम अपनी व्यथा, दर्द बताने आए हैं। आप सबकी सुनते हैं, हमारी भी आवाज, दर्द को सुनिए। कहने को तो लोकत्रंत्र का हम चौथा स्तम्भ कहलाते है, लेकिन सरकारजी तीन स्तम्भ की तो देख भाल होती है पर इस चौथे पिलर को आजादी के बाद से आज तक किसी ने भी शुध नही ली गयी फिर हमें लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ क्यों कहते हो। हम पत्रकारों को भीख में यह चौथा स्तंभ का तगमा नही चाहिए।

अध्यक्षीय संबोधन करते हुए रमानाथ विद्रोही ने कहा कि राज्य में हम पत्रकार कब तक मारे जाते रहेंगे, कब तक प्रताड़ित होते रहेंगे, कहते है कि लोकतंत्र की आंख और कान होती है मीडियाकर्मी, लेकिन यहां तो हमे ही ख़त्म किया जा रहा है। मुख्यमंत्री महोदय हमारी आवाज को सुनिए हम भी लोकतंत्र के अंग है, हम आहात के साथ भयभीत है, हमारे दर्द को देखिए, हमें स्वछन्द निर्भीक अपने रॉ में चलने की आजादी दी जाय।

वहीं मीडिया घरानों पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि हम आपसे भी शोषित व प्रताड़ित हो रहे हैं। आपने संपादकीय पर मैनेजमेंट को हॉवी बना दिया है जो देश व समाज हित में कतई उचित नही है, आपको भी इस बिंदू पर विचार करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारों पर कई तरह का आरोप लगाकर प्रताड़ित करने में अधिकारी भी शामिल हो रहे हैं। इसका उदाहरण बांका और मुजफ्फरपुर से लिया जा सकता है। प्रशासनिक अधिकारी हम भी उसी लोकतंत्र का अंग है जिसके आप भी हो।

धरना को प्रदेश उपाध्यक्ष उदय मिश्रा, केदार नाथ, देवेन्द्र ठाकुर, प्रदेश सचिव अरुण झा, रणजीत कुमार सम्राट, विश्वनाथ कुमार गुप्ता, प्रेमचन्द कुमार, रामायण सिंह, उमाशंकर सिन्हा, मनोज कुमार, मनीष कुमार , गौतम कुमार गुप्ता, मो अंजुम ,रविन्द्र नाथ झा, रणजीत सिंह, एजाज अहमद, धर्मेन्द्र धीरज, प्रमोद कुमार, मो शाहनवाज अता आदि ने संबोधित किया। धरना में काफी संख्या में पत्रकारों ने भाग लिया।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com