कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन पर सोशल मीडिया में उठे कई सवाल... कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन पर सोशल मीडिया में उठे कई सवाल...

कोबरापोस्ट के स्टिंग ऑपरेशन पर सोशल मीडिया में उठे कई सवाल...

Tuesday, 29 May, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

हाल ही में कोबरा पोस्ट ने मीडिया संस्थानों को लेकर अपने ऑपरेशन 136 के तहत एक स्टिंग किया है। हालांकि इस स्टिंग पर कई सवाल भी उठ रहे हैं। सोशल मीडिया पर ऐसे कमेंट्स की बाढ़ आई हुई है, जिसमें लोग यह पूछ रहे हैं कि आखिर इस ऑपरेशन में कुछ खास संस्थानों को शामिल क्यों नहीं किया गया? यूजर्स ने यह सवाल भी दागा है कि पेड न्यूज़ का खुलासा करने वाले कोबरापोस्ट ने क्या किसी के कहने पर इस ऑपरेशन की पटकथा रची?

राम सुब्रमण्यम नामक ट्विटर यूजर ने कहा है कि सभी स्टिंग ऑपरेशन आधा सच दिखाते हैं, कोबरा पोस्ट पर भरोसा नहीं किया जा सकता। वहीं चित्रा सुब्रमण्यम ने लिखा है- बीसीसी, एचटी, इंडिया टुडे और अन्य मीडिया संस्थान कोबरा पोस्ट पर सवाल उठा रहे हैं, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि इसके संपादक अनिरुद्ध बहल तहलका के सह-संस्थापक भी थे, जिसने आखिर में अपने बम से खुद को ही उड़ा लिया था


इसी तरह अभिनव प्रकाश ने लिखा है कि यदि मीडिया पेड स्टोरी चला रहा हैजैसा कि कहा जा रहा है तो कोबरा पोस्ट से मेरा सवाल है कि क्या वो बताएंगे कि उन्हें इस ऑपरेशन के लिए भुगतान नहीं किया गया हैहम क्यों विश्वास करें और किस पर विश्वास करें?’


ट्विटर यूजर विवस्वान ने भी कोबरा पोस्ट के ऑपरेशन पर सवाल उठाया है। उन्होंने लिखा है कि इस ऑपरेशन में एनडीटीवीवायरप्रिंट इत्यादि का उल्लेख नहीं है। कोबरा पोस्ट का यह स्टिंग मुझे शेरलॉक होम्स के लेखक सर आर्थर कॉनन डोयाले की शार्ट स्टोरी 'सिल्वर ब्लेज' की याद दिलाता है जिसमें नहीं भौंकने वाले कुत्ते’ का जिक्र किया गया था। 


वहीं नागसुंद्रम ने कोबरा पोस्ट के ट्वीट पर अपने कमेंट में लिखा है, तो क्या कोबरापोस्ट किसी पार्टी का समर्थन नहीं करता?

हालांकि ऐसा नहीं है कि कोबरा पोस्ट का समर्थन करने वालों की कमी है, सोशल मीडिया पर तमाम यूजर इस ऑपरेशन की सराहना भी कर रहे हैं। पूर्व आप नेता और समाजसेवी योगेंद्र यादव ने इस बात पर नाराज़गी जताई है कि इस ऑपरेशन को अख़बारों में जगह क्यों नहीं दी गई। उन्होंने ट्वीट किया है, ‘मैंने कोबरापोस्ट के ऑपरेशन 136 के बारे में गूगल किया, लेकिन मुझे मेनस्ट्रीम प्रिंट मीडिया के बारे में एक भी रिपोर्ट नहीं मिली। क्या मुझसे कुछ छूट गया?’


कोबरा पोस्ट का यह स्टिंग सांप्रदायिक ध्रुवीकरण में मीडिया की भूमिका को लेकर था। यह ऑपरेशन पत्रकार पुष्प शर्मा ने श्रीमद् भगवद गीता प्रचार समिति, उज्जैन का प्रचारक बनकर और खुद का नाम आचार्य छत्रपाल अटल बताकर की। इस दौरान उन्होंने नामी मीडिया संस्थानों के अधिकारियों से बातचीत को अपने कैमरे में रिकॉर्ड किया। उन्होंने मीडिया संस्थान से यह कहा कि उन्हें पहले चरण में हिंदुत्व का प्रचार करना होगा, जिसके तहत धार्मिक कार्यक्रमों के माध्यम से हिंदुत्व को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके बाद विनय कटियार, उमा भारती, मोहन भागवत और दूसरे हिंदुवादी नेताओं के भाषणों को बढ़ावा देकर सांप्रदायिक तौर पर मतदाताओं को जुटाने के लिए अभियान खड़ा किया जाएगा। और चुनाव नज़दीक आते ही राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को टारगेट करना होगा। इसके अलावा राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव जैसे विपक्षी दलों के बड़े नेताओं को पप्पू, बुआ और बबुआ कहकर जनता के सामने पेश करना होगा, ताकि चुनाव के दौरान जनता उन्हें गंभीरता से न ले। 


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com