ET ने बताया, कैसे भरोसे के रिश्ते को टूटने से बचा रहा AIR

Thursday, 20 July, 2017

अमरनाथ यात्रियों पर आतंकवादी हमले की घटना के बाद से ऑल इंडिया रेडियो (AIR) अमरनाथ यात्रा में मुस्लिमों के सहयोग और उनकी अहमियत बताने वाले कार्यक्रम प्रसारित कर रहा है। बिजनेस अखबार इकनॉमिक टाइम्स की एक खबर के मुताबिक, जम्मू और कश्मीर के अलावा पाक अधिकृत कश्मीर और पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में सुने जाने वाले इन कार्यक्रमों के जरिए प्यार और भरोसे के रिश्ते को कायम रखने की कोशिश की जा रही है। यह कार्यक्रम 6 भाषाओं- उर्दू, कश्मीरी, डोगरी, गोगरी, पहरी और हिंदी में प्रसारित किए जा रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इन कार्यक्रमों के माध्यम से यह भी बताने की कोशिश की जा रही है कि अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले के बाद से कश्मीरियों में कितना गुस्सा है।

सात अमरनाथ यात्रियों की जान लेने वाले आतंकी हमले के अगले दिन प्रसारित किए गए कार्यक्रम में यह बताया गया है कि किस तरह अमरनाथ की खोज एक मुस्लिम ने की थी और सालों से इसकी देखरेख और रखरखाव मुस्लिम ही करते आए हैं। कार्यक्रम में इस बात का भी जिक्र था कि कई स्थानीय मुस्लिम अमरनाथ यात्रियों की मेजबानी, उनके आने-जाने की व्यवस्था और अन्य गतिविधियों में शामिल रहते हैं।

AIR के एक अन्य विशेष कार्यक्रम में बताया गया कि किस तरह 20,000 मुस्लिम अमरनाथ जाने के रास्ते में यात्रियों के सहयोग के लिए काम करते हैं। इनमें वे 7000 लोग भी शामिल हैं जो अपने घोड़ों के जरिए यात्रियों को आगे तक ले जाते हैं। कार्यक्रम में ऐसे कई किस्से बताए गए जब यात्रा के दौरान खराब मौसम या कोई हादसा हो जाने के चलते यात्रियों की जान बचाने के लिए स्थानीय मुस्लिम लोग सामने आए। खास तौर पर बालटाल बेस कैंप के नजदीक ऐसे कई मामले देखे गए हैं।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



Copyright © 2017 samachar4media.com