‘स्‍टोरी टेलिंग’ के लिए मीडिया के छात्र यहां कर सकते हैं इंटर्नशिप, इस वरिष्‍ठ पत्रकार ने दिया मौका

Thursday, 31 August, 2017

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

जाने-माने पत्रकार, लेखकर, स्क्रिप्‍ट राइटर और गीतकार नीलेश मिश्रा मीडिया के छात्रों से रूबरू हुए। श्रीनगर के मीडिया कांप्लेक्स में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा मीडिया छात्रों के लिए आयोजित रेडियो स्टोरी टेलिंग विषय पर आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में उन्‍होंने प्रतिभागियों को कहानी सुनाने के गुर सिखाए। अपने रेडियो शो यादों का इडियट बॉक्‍स’ (Yaadon Ka Idiot Box) के लिए मशहूर नीलेश ने कहा कि किसी चरित्र के नजरिये से दुनिया को देखना ही बेहतर कहानी बताने की असली कुंजी है।

कहानी कहने की कला के बारे में मिश्रा ने कहा कि मानसिक रूप से किसी चरित्र में शामिल होनाअच्छी कहानियों की रचना और उनके सुनाने की कला को बेहतर बनाता है। मिश्रा ने छात्रों को अपने मीडिया संस्थान में कहानी कहने की इंटर्नशिप की पेशकश की। इस मौके पर निदेशक सूचना मुनीर-उल-इस्लाम ने घोषणा की कि डीआइपीआर जल्द ही जम्मू और श्रीनगर में मीडिया छात्रों के लिए इंटर्नशिप शुरू करेगा। कई अन्य कार्यक्रम पाइपलाइन में हैंजो मीडिया के छात्रों को सफल कॅरियर शुरू करने के लिए जरूरी एक्सपोजर पाने में मदद करेंगे।

उन्‍होंने छात्रों से कहा कि वे शुरुआत में ही अपने कॅरियर का चुनाव कर लें और किसी भी तरह के दबाव में न आएं और अपने लक्ष्‍य की प्राप्ति में जुट जाएं। उन्‍होंने कहा कि व्‍यक्ति अपने आप को आसानी से पहचान सकता है कि वह किस फील्‍ड में बेहतर कर सकता है। फिल्‍म निर्देशक महेश भट्ट से मुलाकात का जिक्र करते हुए नीलेश ने यह भी बताया कि किस तरह उन्‍होंने जिस्‍मफिल्‍म के लिए जादू है नशा है...गीत लिखा था।  

कार्यशाला में मीडिया एजुकेशन रिसर्च सेंटरकश्मीर विश्‍वविद्यालयइस्लामिक यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजीअवंतीपोरासरकारी महिला कॉलेज एमए रोड और गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज बारामुला की फैकल्टी और मीडिया छात्रों ने भाग लिया। 


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com