10 करोड़ मिलने की अफवाह का जब वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी को करना पड़ा खंडन

Thursday, 19 November, 2015

हाल ही में जनसत्ता से रिटायर हुए वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी को लेकर सोशल मीडिया पर एक ऐसी खबर फैली कि उन्हें खुद इसका खंडन करना पड़ा। खबर थी कि 1 नवम्बर को मावलंकर हॉल में प्रतिरोध के आयोजन के लिए उन्हें एक सांसद से दस करोड़ रुपए मिला है। अपने फेसबुक वॉल पर उन्होंने इस खबर का कुछ इस तरह खंडन किया… बड़ी आनंददायक खबर है: मुझे दस करोड़ रुपया मिला है। एक सांसद के जरिए, पहली नवम्बर को मावलंकर हॉल में प्रतिरोध के आयोजन के लिए। यानी मेरी तंगहाली तो रातोंरात दूर हो गई। अशोक वाजपेयी और एमके रैना को ज्यादा मिला होगा, क्योंकि वे बड़े नाम हैं। हालांकि उन्हें मुझ सरीखी जरूरत शायद न हो! बहरहाल, यह अफवाह वीके सिंह ने फैलाई होती तो मैं एक कान से दूसरे कान निकाल देता। अफवाह एक वामपंथी कवि ने फैलाई है। उसने एक कथाकार मित्र को फोन कर यह 'जानकारी' दी। इसी तरह औरों को भी दी होगी। सच्चाई यह है कि उस कार्यक्रम के खर्च (हॉल, पोस्टर और चाय आदि) तक को आयोजन का 'पंगा' लेने वाले हम चंद लोगों ने अपनी जेब से वहन किया है, उसके लिए किसी संस्था या न्यास या पार्टी से न चंदा मांगा न साधन। मगर जानते हैं यह दस करोड़ की विराट अफवाह सरकाने वाला कवि है कौन? वही सूक्तिकार, जिसने पहले यह अफवाह भी फैलाई थी कि मैंने डॉ. नामवर सिंह के जन्मदिन समारोह में हल्की बात की और मेरी पिटाई कर दी गई, मैं घायल हो गया, अस्पताल जा पहुंचा आदि। मजा यह था कि जिस जगह का जिक्र किया गया, वहां और लेखक भी मौजूद थे जिन्होंने जानना चाहने वालों को सच्चाई भी बाद में बता दी। तो आप क्या समझे थे कि अफवाहें फैलाने का काम संघ परिवार वाले ही करते हैं? या मुझसे, अशोक वाजपेयी आदि से संघ वालों को ही खुन्नस है? अजी, कुछ वामपंथी 'साथी' भी कम नहीं। हालांकि मेरे वामपंथी मित्र ऐसे तत्त्वों को (अब) शायद वामपंथी मानने से इनकार करने लगें! लेकिन ऐसा इनकार ही तो संघ वाले करते हैं, जब उनके बन्दे पकड़े जाते हैं! (साभार: वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी की फेसबुक वॉल से)

 

 

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com