जल्द ही इस बड़े चैनल का प्रमुख चेहरा बनेंगे वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी!

जल्द ही इस बड़े चैनल का प्रमुख चेहरा बनेंगे वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी!

Monday, 05 March, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

पुण्य प्रसून बाजपेयी हिंदी पत्रकारिता का एक ऐसा नाम हैजिन्होंने बाजारवादी पत्रकारिता के इस दौर में भी अपनी एक अलग पहचान बनाई है। देश के नंबर वन चैनल ‘आजतक’ के प्राइम टाइम पुण्य प्रसून ने समूह के एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद से इस्तीफा देकर अपने को टीवी टुडे समूह से अलग कर लिया है।

पत्रकारिता के अपने लंबे करियर में पुण्य प्रसून बाजपेयी अब एक ऐसे मीडिया समूह के साथ नई पारी शुरू करने जा सकते हैंजो पिछले कई हफ्तों से टीआरपी की रेस में पिछड़ रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिकवे जल्दी ही एबीपी न्यूज चैनल के साथ अपने पत्रकारिता करियर को आगे बढ़ा सकते हैं। हालांकि एबीपी की ओर से इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

ये भी पढ़ें : पुण्य प्रसून को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब है ये Decode!

पर बड़ी बात ये है कि अगर पुण्य प्रसून (जैसा कि हमारे सूत्र बता रहे हैं) एबीपी जॉइन करते हैंतो फिर उनके शो के लिए एबीपी के किस एंकर के शो पर गाज गिरेगी। पुण्य प्रसून के आजतक पर आने वाले शो 'दस्तक' का टाइम रात दस बजे का रहता थाऐसे में एबीपी को अपने लोकप्रिय शो 'घंटी बजाओ' जिसे अनुराग मुस्कान एंकर करते हैंउसे हटाना होगा। चूंकि 'घंटी बजाओ' लोकप्रिय हैऐसे में ये भी हो सकता है कि रात नौ बजे दिबांग के शो 'जन मन' पर कैंची चल जाएबताया जा रहा है कि आजकल ये शो भरपूर टीआरपी भी नहीं ला रहा है। या फिर आठ बजे या फिर सात बजे चुनावी शो जिसे चित्रा त्रिपाठी, अभिसार शर्मा या नेहा पंत एंकर करती हैं उसे किसी और टाइम पर प्रसारित किया जाए। यानी कुल मिलाकर प्रसून की एंट्री के बाद चित्रा हो या अनुरागअभिसार हो या दिबांग किसी एक के शो का टाइम स्लॉट तो बदला ही जाएगाये तय माना जा रहा है।

वैसे प्रसून की खासियत है कि टेलिविजन पत्रकारिता में खासे लोकप्रिय होने के बाद भी जिस तरह से अभी भी वे पत्र-पत्रिकाओं में लिखते रहते हैंवह उन्हें अलग श्रेणी में ला खड़ा करता है। ज्यादातर टेलिविजन पत्रकार प्रिंट मीडिया की ही देन हैं। एक बार टीवी में जाने के बाद ज्यादातर लोग टीवी के ही होकर रह गएलेकिन पुण्य प्रसून बाजपेयी इसके उलट हैं। अभी देश में कुछ पत्रकार ऐसे हैंजो जन सरोकार वाले मसलों पर खासे सजग रहते हैं और अपनी लेखनी के जरिए उन मसलों को उठाते हैं। प्रसून वैसे ही पत्रकार हैं।

पटना में पले-बढ़े पुण्य प्रसून ने स्नातक तक की पढ़ाई पटना से ही की। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में इंटरनेशनल रिलेशन में एम.ए. करने के लिए उन्होंने दाखिला जरूर लियालेकिन उन्होंने बीच में ही इसे छोड़ दिया।

पुण्य प्रसून बाजपेयी के पास प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में 3साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्हें दो बार पत्रकारिता का प्रतिष्ठित अवॉर्ड 'रामनाथ गोयनका अवॉर्ड' से नवाजा जा चुका है। पहली बार 2005-06 में हिन्दी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में उनके योगदान के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया, जबकि दूसरी बार वर्ष 2007-08 में हिंदी प्रिंट पत्रकारिता के लिए गोयनका अवॉर्ड से नवाजा गया।

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने भारत के कई बड़े मीडिया घरानों के साथ काम किया है। पुण्य प्रसून ने पत्रकारिता की शुरुआत ‘जनसत्ता’ से की थी। प्रभाष जोशी उनसे खूब लिखवाते थे। हालांकि पुण्य प्रसून ने ‘जनसत्ता’ में नौकरी नहीं की। इसके अलावा उन्होंने ‘संडे ऑब्जर्वर’ संडे मेल और ‘लोकमत’ में भी काम किया। लोकमत’ में काम करना पत्रकारिता में पुण्य प्रसून की पहली नौकरी थी। ‘आजतक’ में उन्होंने तब काम करना शुरू किया थाजब एस.पी. सिंह इसके कर्ताधर्ता थे। एस.पी. सिंह के बाद भी लंबे समय तक प्रसून ‘आजतक’ में रहे। ‘आजतक’ में काम करने के दौरान ही प्रसून ऐसे पहले भारतीय टेलिविजन पत्रकार बन गए जिसमें पाक अधिकृत कश्मीर जाकर रिपोर्टिंग की हो। वे लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख मोहम्मद हाफिज सईद का साक्षात्कार लेने में भी कामयाब रहे और ऐसा करने वाले वे पहले भारतीय पत्रकार बन गए। पुण्य प्रसून ने जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन का भी दो बार साक्षात्कार लिया।

आजतक’ के बाद पुण्य प्रसून ‘एनडीटीवी इंडिया’ का हिस्सा लॉन्चिंग टीम का हिस्सा बने। ‘एनडीटीवी’ में पुण्य प्रसून ने एक टॉक शो ‘कशमकश’ शुरू कियाजो बेहद लोकप्रिय हुआ। ‘एनडीटीवी’ में काम करने के दौरान उन्होंने कई बड़े मामलों का खुलासा किया। ‘एनडीटीवी’ के बाद पुण्य प्रसून एक बार फिर ‘आजतक’ में लौट आए। यहां वे रात दस बजे ‘दस्तक’ नाम के कार्यक्रम के साथ दूसरे कार्यक्रमों की भी एंकरिंग करते थे। ‘दस्तक’ नाम का यह कार्यक्रम भी बेहद लोकप्रिय हुआ। ‘आजतक’ में कुछ समय काम करने के बाद वे 2007-08 में लगभग 8 महीनों के लिए सहारा समय चैनल से जुडे गए। इसके बाद वे ‘जी न्यूज’ में चले गए और वहां 4 साल तक प्राइम टाइम एंकरिंग का जिम्मा संभाला। हालांकि पुण्य प्रसून के जीवन का संघर्ष यहीं नहीं थमा। जी न्यूज’ में काम कुछ समय काम करने के बा वे एक बार फिर ‘आजतक’ में वापस लौट आए।

पुण्य प्रसून लाइव एंकरिंग की अपनी खास स्टाइल के चलते इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रसिद्ध हैं। दिसंबर 2001 में संसद भवन पर हुए आतंकी हमले की लगातार घंटों तक लाइव एंकरिंग करने के लिए भी पुण्य प्रसून को खूब प्रसिद्धि मिली।

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने 6 किताबें भी लिखी हैं जिनमें ‘आदिवासियों पर टाडा’, ‘संसदः लोकतंत्र या नजरों का धोखा’, ‘राजनीति मेरी जान’, ‘डिजास्टरः मीडिया एंड पॉलिटिक्स’, ‘ब्रेकिंग न्यूज’, “एंकर रिपोर्टर” शामिल है।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।  



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com