जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार शिशिर सिन्हा के शुरुआती संघर्ष की कहानी, उन्हीं की जुबानी...

जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार शिशिर सिन्हा के शुरुआती संघर्ष की कहानी, उन्हीं की जुबानी...

Tuesday, 05 September, 2017

पिछले 20 वर्षों से बिजनेस पत्रकारिता कर रहे शिशिर सिन्हा ने अपने करियर के शुरुआती संघर्ष की कहानी फेसबुक पर लिखी है। वे इन दिनों एबीपी न्यूज में बिजनेस एडिटर के पद पर कार्यरत हैं और इसके साथ वे सितंबर, 2015 में जुड़े थे। 16 वर्षों से वे हिंदी पत्रकारिता करते आ रहे हैं, लेकिन चार वर्षों तक उन्होंने अंग्रेजी पत्रकारिता भी की। वे जुलाई, 2011 से सितंबर, 2015 तक द हिन्दू में रहे। एबीपी न्यूज और द हिन्दू अलावा उन्होंने सीएनबीसी आवाज, आजतक, अमर उजाला और राष्ट्रीय सहारा में काम किया। उनका करियर के संघर्ष की कहानी आप नीचे पढ़ सकते हैं-  

आज ही का दिन (1 सितंबर) था। साल था 1994। अपने साथी प्रणव प्रियदर्शी (फिलहाल जी हिंदुस्तान में कार्यरत) के साथ वाराणसी से श्रमजीवी एक्सप्रेस से दिल्ली पहुंचा था। पैसे जेब में ज्यादा नहीं थे। इसीलिए बगैर आरक्षण के स्लीपर क्लास के दरवाजे पर सफर किया। रात को नींद आयी तो अखबार बिछाकर दरवाजे के पास ही झपकी ले ली। खैर सुबह-सुबह दिल्ली पहुंचा।

सबसे पहले सामना हुआ ऑटो वाले से। वो हमें पहचान गए। एक शिकार थे हम। दक्षिणी दिल्ली जाना था। मीटर तो तब भी नहीं चलता था। आश्रम के पास घुमते-घुमाते पहुंचे। सौ रुपये वसूल लिए, जबकि कायदे से किराया 30 रुपये से ज्यादा नहीं बनता था। क्या करें, रास्ता तो पता था नहीं और ना ही मीटर का अंदाजा। लूट गए।

दूसरा झटका तो तब लगा जब एक रिश्तेदार के यहां पहुंचे। बहुत करीबी थे। सोचा था कि उनसे आस-पास किराये पर कमरा दिलाने का आग्रह करुंगा, क्योंकि दिल्ली में तो कोई अपना पहचान का तो था नही। उनके घर पर एक भी दिन रुकने का इरादा नहीं था। लेकिन उनके घर पहुंचते ही जिस तरह का व्यवहार मिला, वो बेहद दुखद था। चाय-पानी तो छोड़िए, पहला सवाल था, कब निकलना है। खैर, 10-15 मिनट के भीतर ही वहां से निपट लिए।

अगला पड़ाव चाणक्यपुरी का यूथ हॉस्टल था। बेहद मामूली किराये पर बिस्तर मिला, चंद दिनों के लिए। पास में एक ढाबा था। 10 रुपये में चावल-मांसमिल जाता था। कुछ दिन गुजरें। यहीं से पूरे दिल्ली शहर में चप्पलें चटकानी शुरू की।

अच्छी बात ये हुई कि पीटीआई-भाषा में इंटर्नशिप का मौका मिल गया। कोई पैसा नहीं मिलता था। बाबूजी से मांगने में संकोच होता था, फिर भी वो अपने सामर्थ्य से ज्यादा पैसा भेजने की कोशिश करते थे। इस बीच, दो जगहों पर ट्यूशन शुरू कर दिया। आकाशवाणी के कार्यक्रमों के लिए स्क्रिप्ट लिखना शुरू कर दिया। साथ ही अखबारों में लेख छपवाने की कोशिश में लगा। नहीं भूल पाता हूं जब एक अखबार में फीचर विभाग के प्रभारी ने आलेख तीन-तीन बार दोबारा लिख कर लाने को कहा और मैने उसी दफ्तर की सीढ़ियों पर तीन बार आलेख लिखा। बाद में वो आलेख छपा और कुछ पैसे भी मिले।

संघर्ष के दिन थे। ना दिन का पता था और ना ही रात का। लेकिन साहस मिलता था बड़े भाई अतानु दा (पीटीआई भाषा वाले) से। हर संभव उन्होंने मेरी मदद की, चाहे इंटर्नशिप की बात हो या फिर आकाशवाणी में काम दिलवाने में। वहीं परम मित्र संदीप की मदद से पालम में कमरा मिल गया। 500 रुपये किराया। लेकिन मकान मालिक इतने अच्छे थे कि जब उन्हे किराया देने जाता था वो पहले पूछते थे कि तुम्हारे पास पैसा है या नहीं। काश, सभी संघर्षशील साथियों को ऐसे ही मकान मालिक मिले।

बहरहाल, इतना पैसा जुट जाता था जिससे मकान का किराया, खाना, बस के किराये वगैरह का खर्च निकल जाए। लेकिन 20 तारीख तक आते-आते हालत खराब हो जाती थी। एक-एक रुपये, सौ-सौ रुपये के बराबर लगते। एक दिन पैंट जेब से बचे हुए कुल 25 रुपये कहीं गिर गए और शर्ट की ऊपरी जेब में बचा पांच रुपया। महीना पूरा होने में सात दिन का समय बचा था और किसी से उधार मांगने की हिस्मत नहीं होती थी। चूंकि रात के खाने कि लिए महीने भर की रकम पहले ही डिब्बे वाली आंटी को दे चुका था, लिहाजा उसकी चिंता नहीं थी। लेकिन आंटी हफ्ते में सिर्फ छह दिन खाना मुहैया कराती थी, एक दिन का इंतजाम खुद करना होता था। वो सात दिन कैसे गुजरे, बता नहीं सकता।

ये सबकुछ 10 महीने तक चला। 23 जून 1995 को पहली नौकरी मिली। 2000 रुपये महीने की पगार पर, जिसमें से 200 रुपये पीएफ के कट जाते थे, यानी 1800 रुपये का वेतन। बता नहीं सकता, पहली बार 1800 रुपये मिलने पर कितनी खुशी हुई थी और उसे खर्च करने की कितनी योजनाएं बना ली थी। ट्यूशन तब भी जारी रखा। मजे की बात है कि एक ट्यूशन ओल्ड राजिंदर नगर में ही मिला। वही ओल्ड राजिंदर नगर जहां आज अपनी रिहाइश है।

तब से लेकर आज तक दिल्ली ने काफी कुछ दिया। नौकरी दी, पत्नी दी, परिवार बनाया, डेरे को घर में तब्दील कराया। लेकिन पहली सितम्बर 1994 से लेकर पहली सितम्बर 2017 के बीच कई कड़वे अनुभव भी हुई, सीख भी मिली। सबसे बड़ी सीख तो ये कि आप अपने जिस रिश्तेदार को सबसे करीब मानते हैं, उनसे कोई मदद नहीं मिलती, लेकिन साथ देते है वो जिनसे कोई खून का रिश्ता नहीं होता।

आज दिल्ली मेरे लिए मेरा शहर हो गया है। हालांकि जड़ अभी भी पटना में है और मन वाराणसी में गाहे-बगाहे विचरता रहता है।

शुक्रिया दिल्ली


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com