अपनी रिपोर्ट से तहलका मचाने वाला ये अखबार फिर होगा शुरू... अपनी रिपोर्ट से तहलका मचाने वाला ये अखबार फिर होगा शुरू...

अपनी रिपोर्ट से तहलका मचाने वाला ये अखबार फिर होगा शुरू...

Tuesday, 29 August, 2017

पंचकुला की विशेष सीबीआई अदालत ने सोमवार को गुरमीत सिंह राम रहीम को दो शिष्याओं के साथ बलात्कार के मामले में 20 साल जेल की सजा सुनाई, साथ ही उन पर 30 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है। लेकिन इस पूरे मामले में अहम भूमिका निभाने वाले सिरसा के एक स्थानीय अखबार 'पूरा सच' को लेकर एक खबर सामने आई है।

हिंदी दैनिक नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, गुरमीत सिंह की करतूतों का खुलासा करने वाला अखबार 'पूरा सच' को दिवंगत पत्रकार व संस्थापक रामचंद्र के परिवार ने अब इसे एक बार फिर शुरू करने का फैसला किया है। साल 2000 में सिरसा में रामचंद्र छत्रपति ने वकालत छोड़करपूरा सचके नाम से अखबार शुरू किया था, लेकिन डेरा मामले के खुलासे के बाद उनकी हत्या कर दी गई और उसके बाद से ही अखबार पर दबाव था। अखबार के हॉकर्स, विज्ञापन देने वालों और स्तंभकारों तक को धमकाया जा रहा था। हालांकि कड़ा संघर्ष करते हुए छत्रपति के परिजनों और मित्रों ने 8 एंप्लॉयीज के साथ अखबार को मुश्किलों में भी चलाए रखा। अंत में आर्थिक तंगी और दबाव के चलते अखबार का प्रकाशन बंद ही करना पड़ा।

रामचंद्र के बेटे अंशुल ने कहा, 'डेरा सच्चा सौदा के समर्थक लगातार हमारे विज्ञापनदाताओं, हॉकर्स और स्तंभकारों तक को धमका रहे थे। प्रशासन और पुलिस में हमने कई बार शिकायत की, लेकिन वह अनसुनी कर देते थे। वित्तीय स्थिति भी लगातार खराब होती रही। हमारे कुछ हॉकर्स को बुरी तरह से पीटा गया, लेकिन डर के मारे उन्होंने खुद पुलिस में मामला तक दर्ज नहीं कराया।' अंशुल ने बताया कि शुरुआत में हमें पता भी नहीं लगा कि आखिर हॉकर क्यों छोड़ रहे हैं, जबकि उन्हें सही पैसे भी दे रहे हैं। यह दबाव यही नहीं रुका।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com