वरिष्ठ पत्रकार संजीव श्रीवास्तव से टीवी डिबेट का सलीका सीख रहे हैं एसपी नेता

Wednesday, 30 September, 2015

हिंदी दैनिक अखबार नवभारत टाइम्स में पत्रकार मनीष श्रीवास्तव की एक रिपोर्ट प्रकाशित हुई है, जिसमें बताया गया है कि आगरा के एक होटल में बीबीसी के पूर्व रिपोर्टर और प्रमुख रहे संजीव श्रीवास्तव और जानी-मानी टीवी एंकर ऋचा अनिरुद्ध समाजवादी पार्टी के नेताओं को टीवी डिबेट के गुर सिखा रहीं हैं। उन्हें सोशल मीडिया पर अपडेट रहने की जानकारी दे रही हैं। बताया जा रहा है कि इस तरह की कुल पांच वर्कशॉप का ओयोजन होना है। आगरा, लखनऊ से पहले दिल्ली के मयूर विहार में भी सपा नेताओं के लिए इस तरह की एक वर्कशॉप लगी थी। माना जा रहा है कि 2017 के चुनावों के लिए पार्टी ने कमर कस ली है और वे अपने नेताओं को टीवी चर्चाओं के जरिए सरकार की उपलब्धियां जनता को बताने की भरसक कोशिश करेगी। वैसे इस खबर के बारे में नवभारत टाइम्स में मनीष श्रीवास्तव की एक रिपोर्ट भी प्रकाशित हुई है, जे यहां पढ़ सकते हैं: टीवी डिबेट का सलीका सीख रहे हैं एसपी नेता आगरा के एक होटल में बाकायदा स्टूडियो बनाया गया है। स्टूडियो में टीवी की मशहूर एंकर ऋचा अनिरुद्ध की क्लास चल रही है। वह कुछ नेताओं को चैनलों पर आने वाली बहस को प्रेजेंट करने के तरीके समझा रही हैं। वह समझा रही हैं कि अगर विरोधी दल का कोई यूपी से जुड़ा कोई संवेदनशील मुद्दा उठाता है तो कैसे तुरन्त और सटीक जवाब देना है। कैसे उन्हें खुद को तैयार करके आना है और किस जानकारी का कब इस्तेमाल किया जाना है। सीखने वाले समाजवादी पार्टी के कुछ युवा और कुछ पुराने नेता हैं, जिन्हें टीवी पर प्रजेंटेशन के लिए तैयार किया जा रहा है। समाजवादी पार्टी अपनी इमेज ब्रांडिंग के लिए 25 लोगों की एक हाईटेक टीम तैयार कर रही है। खुद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पहल पर इन्हें बीबीसी के पूर्व रिपोर्टर, चैनलों के मशहूर एंकर और टेक्निकल टीम के एक्सपर्ट की मदद से निखारा जा रहा है। चेहरे के भाव से लेकर तकनीक का ज्ञान बीबीसी के पूर्व रिपोर्टर और प्रमुख रहे संजीव श्रीवास्तव, टीवी एंकर ऋतुल जोशी इस क्लास के टीचर हैं। वे इन सभी नेताओं को यह भी बता रहे हैं कि टीवी पर उन्हें कैसे सहज दिखना है। चेहरे के भाव कैसे रहने चाहिए। विरोधी कोई तीखी बात भी कहे तो उन्हें गुस्सा नहीं होना है बल्कि तर्कों से उसे काटना है। इसकी पहली क्लास आगरा के एक होटल में हुई। इसके बाद 26 और 27 सितंबर को दो दिन तक लोहिया ट्रस्ट में यह क्लास हुई। यहां उन्हें बताया जा रहा है कि कौन से रंग की ड्रेस टीवी पर बेहतर दिखेगी। कौन सी किताबें पढ़नी चाहिए। सरकार की किन नीतियों और कामों को बेहतर ढंग से प्रोजेक्ट किया जा सकता है। कौन से काम सरकार ने पूरे किए हैं और बीजेपी या कांग्रेस के कराए कौन-कौन से काम अभी लटके हुए हैं। लाइट और कैमरों की भी जानकारी दी जा रही है और यह भी बताया जा रहा है कि कैमरे को कैसे फेस करना चाहिए। कैमरे के सामने कहां बैठने से आपका प्रजेंटेशन बेहतर हो सकता है, यह भी बताया गया। बहस की मॉक क्लास स्टूडियो में बहस की भी मॉक क्लासेज चल रही हैं। बहस का मुद्दा है आरएसएस का आरक्षण पर नजरिया। इसमें कुछ एसपी के नेता बने हैं तो कुछ बीजेपी और आरएसएस के पक्षधर की भूमिका में हैं। सिखाया जा रहा है कि कैसे उन्हें कौन-कौन से तर्क गढ़ने हैं। अगर कोई बात गलत निकल भी गई है तो कैसे उसे संभालना है, इसकी भी ट्रेनिंग दी गई। इसके अलावा सोशल मीडिया यानी फेसबुक, टि्वटर या दूसरी साइट्स पर कैसे खुद को अपडेट रखना है, इसकी भी जानकारी दी जा रही है, जिससे समाजावादी पार्टी खासतौर पर युवाओं के मन में जगह बना सके। ट्रेनिंग में शामिल होकर आए एक युवा नेता बताते हैं कि मकसद पार्टी की ब्रांडिंग के साथ 2017 के चुनावों के लिए नए चेहरे तैयार करना है, जो प्रोफेशनल ढंग से जनता के बीच पार्टी का पक्ष रख सकें। (साभार: नवभारत टाइम्स)

 

 

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Copyright © 2017 samachar4media.com