हैप्पी बर्थडे दत्त साहब: रेडियो जॉकी के तौर पर की थी करियर की शुरुआत

हैप्पी बर्थडे दत्त साहब: रेडियो जॉकी के तौर पर की थी करियर की शुरुआत

Wednesday, 06 June, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

हिंदी सिनेमा जगत में अपनी अदाकारी से अलग पहचान बनाने वाले दिवंगत अभिनेता सुनील दत्त का आज जन्म दिन है। सुनील दत्त का असली नाम बलराज दत्त था और उनका जन्म 6 जून, 1929 को पंजाब (पाकिस्तान) के झेलम जिले के खुर्दी गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

सुनील दत्त बचपन से ही अभिनय के क्षेत्र में जाना चाहते थे। बंटवारे के दौरान उनका परिवार भारत आ गया। सुनील जब पांच वर्ष के थे तब ही इनके पिता का निधन हो गया। जब वे 18 साल के हुए तो भारत-पाकिस्तान बंटवारे की वजह से पूरे देश में हिंसा फैली हुई थी। ऐसे में उन्हें एक दोस्त ने बचाया और उन्हें हरियाणा में रखा। बड़ा होने पर अपने सपनों का पीछा करते हुए वे मुबंई पहुंचे, लेकिन यहां उन्हें काफी मेहनत करनी पड़ी। सुनील ने मुबंई के जय हिंद कॉलेज में दाखिला लिया और जीवन यापन के लिए बस में कंडक्टर की नौकरी भी की। 

रेडियों में भी काम किया : 

सुनील दत्त के करियर की शुरुआत दक्षिण एशिया के सबसे पुराने रेडियो स्टेशन ‘रेडियो सीलोन’ से एक उद्घोषक के तौर पर हुई। रेडियो में वे काफी लोकप्रिय भी हुए। सुनील दत्त नर्गिस के बहुत बड़े फैन थे और पत्रकार के रूप में उन्हें नर्गिस से मुलाकात का जल्द ही मौका मिला। एक रोज सुनील को पता चला कि उन्हें नर्गिस का इंटरव्यू लेना है। इसके लिए सुनील दत्त ने काफी तैयारी कीपर नर्गिस का सामने आते ही वो सबकुछ भूल गए और एक भी शब्द नहीं बोल पाएजिसके चलते इंटरव्यू ही कैंसिल करना पड़ा। एक सफल उद्घोषक के रूप में अपनी पहचान बनाने के बाद सुनील कुछ नया करना चाहते थे, लिहाजा उन्होंने फिल्मों में काम करने की सोची और मुबंई आ गए।

मुंबई आने से पहले सुनील काफी समय तक लखनऊ में भी रहे। बाद में ग्रेजुएशन के लिए वे मुंबई आए। कम ही लोग जानते हैं कि जय हिंद कॉलेज में पढ़ाई के दौरान दत्त ने बस डिपो में चेकिंग क्लर्क के रूप में काम किया, जहां उन्हें 120 रुपए महीना मिला करता था। वैसे तो सुनील दत्त ने अपने सिने करियर की शुरुआत वर्ष 1955 में प्रदर्शित फिल्म 'रेलवे प्लेटफॉर्मसे की। लेकिन उन्हें असल पहचान 1957 में प्रदर्शित फिल्म 'मदर इंडियासे मिली। इस फिल्म में सुनील दत्त निगेटिव शेड में थे। सुनील  वैसे पंजाबी फिल्मों में भी अभिनय कर चुके हैं।

राजनीति में भी सक्रिय :

सुनील दत्त ने फिल्मों में अभिनय करने के बाद राजनीति में कदम रखा। 2004 से 2005 तक खेल और युवा मामलो का मंत्रालय संभाला। सुनील ने साल 1984 में काग्रेंस पार्टी के टिकट पर मुबंई के उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट से चुनाव जीता और सासंद बने। यहां से वे लगातार पांच बार सासंद चुने गए थे। सुनील दत्त को देश के चौथे सर्वश्रेष्ठ सम्मान पद्म श्री से भी सम्मानित किया गया।

सुनील दत्त ने फिल्मों के साथ-साथ सामाजिक जीवन में भी बहुत कुछ ऐसा किया जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने ड्रग्स और कैंसर के प्रति लोगों में जागरुकता लाने के लिए दो बार मुंबई से चंडीगढ़ तक पदयात्रा की थी। बंटवारे के बाद पाकिस्तान के हिस्से में चले गए झेलम ज़िले के खुर्दी नामक गांव में उनका जन्म हुआ। उनका असली नाम बलराज दत्त था।

 

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com