‘रीडरशिप बढ़ाने के लिए प्रिंट मीडिया को करना होगा यह काम’

‘रीडरशिप बढ़ाने के लिए प्रिंट मीडिया को करना होगा यह काम’

Saturday, 29 July, 2017

टाइम्‍स ऑफ इंडियाऔर मिररके डायरेक्‍टर (ब्रैंड) संजीव भार्गव अधिक से अधिक अंग्रेजी पाठकों को जोड़ने के अपने मिशन में जुटे हुए हैं। उनका मानना है कि ब्रैंड को युवाओं पर केंद्रित कार्यक्रमों के जरिये उन्‍हें लगातार सशक्‍त बनाते रहना चाहिए।

अपने तीन दशक के कॅरियर में संजीव भार्गव विभिन्‍न विज्ञापन एजेसिंयों के साथ काम कर चुके हैं लेकिन मार्केटिंग में यह उनकी पहली भूमिका है। हालांकि इंडस्‍ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि संजीव हमेशा से दिलों में उतरने वाले मार्केट विशेषज्ञ रहे हैं जो एजेंसी के दिनों से ही विभिन्‍न ब्रैंड्स को मार्केटिंग के सॉल्‍यूशंस देने के लिए तैयार रहते हैं।  

क्रिस्‍टीना मोनिज (CHRISTINA MONIZ) के साथ बातचीत में संजीव भार्गव ने अपनी नई भूमिका से लेकर विभिन्‍न मुद्दों पर अपना पक्ष रखा। प्रस्‍तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश: 

JWT’ में क्रिएटिव पार्टनर की नियुक्ति के पीछे क्‍या स्‍ट्रेटजी थी। खासकर तब, जब एजेंसी पहले ही ब्रैंड के लिए अवॉर्ड विनिंग कल्‍ट ऐडवर्टाइजिंग कैंपेन तैयार कर चुकी थी ?

पांच साल पहले इंडस्‍ट्री विकास के एक अलग चरण में थी। आज प्रिंट मीडियम को अपनी प्रासंगिकता फिर से स्‍थापित करनी है और नए लोगों को भी यह समझाना है कि अखबार पढ़ना क्‍यों जरूरी है। कम्‍युनिकेशन की यह जरूरत पहले नहीं थी और इसके लिए ही कुछ खास स्‍ट्रेटजी बनाने की जरूरत थी। मेरे हिसाब से इस काम के लिए जे वाल्‍टर थॉमसन (J. Walter Thompson) को कुछ योजनाकारों की जरूरत थी। टाइम्‍स ऑफ इंडियाहमेशा से बेहतरीन कम्‍युनिकेशन के लिए जाना जाता है। मेरा मानना है कि कई बार जिन विषयों के साथ हम डील करते हैं, वह इतने महत्‍वपूर्ण होते हैं कि कम्‍युनिकेशन को थोड़ा सा अनुचित लाभ मिल जाता है। फिर भी, नई एजेंसी के साथ मैं कुछ बेहतरीन कार्य करने की उम्‍मीद कर रहा हूं।       

अगले पांच वर्षों में आप टाइम्‍स ऑफ इंडिया ब्रैंड के प्रदर्शन को किस रूप में देखते हैं। खासकर डिजिटल भी अपनी जमीन तैयार कर रहा है ?

पहली बात तो यह है कि मैं इसे ‘zero sum game’ के रूप में नहीं देखता हूं, जहां पर किसी के नुकसान का फायदा दूसरे को होता है। इंटरनेट अपनी पसंद का विषय है। इसका मतलब है कि आप जो पढ़ना चाहते हैं वह पढ़ेंगे। लेकिन यदि आप रोजाना व्‍यापक समाचार चाहते हैं तो सिर्फ अखबार ही वह दे सकता है। इस प्रकार यह हर माध्‍यम में आगे है। इसके अलावा प्रॉडक्‍ट भी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दूसरे प्रतिद्वंद्वी अखबारों की तुलना में हम क्‍या कर रहे हैं, यह जानने के लिए हमारे पास कई कंट्रोल और मीजरमेंट हैं। किसी भी अन्‍य अखबार के मुकाबले टाइम्‍स ऑफ इंडियामें हर पेज पर ज्‍यादा खबरें होती हैं। हम यह मानकर चलते हैं कि लोगों के पास पढ़ने के लिए मुश्किल से ही पर्याप्‍त समय होता है। इसलिए हम चीजों को इस तरह पैकेज करते हैं ताकि वे तेजी से पढ़ सकें। इसके लिए इंफोग्राफ, पिक्‍चर्स और स्‍टोरी की लंबाई का भी ध्‍यान रखा जाता है। यही सब बातें हैं, जिनके द्वारा हम एक बेहतरीन प्रॉडक्‍ट तैयार करते हैं।     

आज के गतिशील और तेजी से बदलते मार्केट में आप कैसे ब्रैंड के टार्गेट ऑडियंस का चुनाव करते हैं ?

सीधी सी बात है कि हम युवाओं को केंद्रित रखते हैं। हम एक युवा देश हैं और यदि मैं देश के युवाओं को अखबार पढ़ने के लिए प्रेरित नहीं करता हूं तो ये मानकर चलिए कि मैं अपना काम नहीं कर रहा हूं, क्‍योंकि मेरा काम ही युवाओं को अखबार पढ़ने के लिए प्रेरित करना है।  

ओप्‍पो टाइम्‍स फ्रेश फेस प्रॉपर्टी किस तरह टाइम्‍स ऑफ इंडियापर प्रभाव डालता है ?

टाइम्‍स ऑफ इंडियाको एक ब्रैंड के रूप में न सिर्फ अपने पाठकों से जुड़ने की जरूरत है बल्कि इसे सशक्‍तीकरण का माहौल बनाने की भी जरूरत है। टाइम्‍स ऑफ इंडियाकी पहल लीड इंडियाऔर टेक इंडियाकी तरह ओप्‍पो टाइम्‍स फ्रेश फेस भी युवाओं को सशक्‍त बनाने को लेकर है। इसके द्वारा हम युवाओं और किशोरों से बातचीत कर रहे हैं और उनके अंदर आत्‍मविश्‍वास पैदा करने के लिए उन्‍हें एक प्‍लेटफार्म दे रहे हैं।     

टाइम्‍स ऑफ इंडियाऔर मिररब्रैंड्स के लिए फिलहाल आपकी प्राथमिकता सूची में क्‍या शामिल है ?

हमें इंग्लिश रीडरशिप बढ़ाने की जरूरत है और मेरे लिए यह एक मिशन है। यह सिर्फ मार्केटिंग प्‍लान नहीं है। हमारे देश की सबसे बड़ी आर्थिक ताकत यह भी है कि हमारे यहां अंग्रेजी बोलने वालों की बड़ी संख्‍या है। हमें इंग्लिश रीडरशिप को काफी बढ़ावा देने की जरूरत है। इसके अलावा हमारे यहां युवाओं की संख्‍या भी काफी अधिक है और उन्‍हें भी अखबार का मूल्‍य समझने की जरूरत है। हालांकि उनके लिए इंटरनेट काफी सुगम है ऐसे में उनके अंदर रोजाना अखबार पढ़ने की आदत डालना हमारे लिए काफी महत्‍वपूर्ण है।     ‍

यदि प्रोफेशनल दृष्टिकोण से देखें तो ऐडवर्टाइजमेंट की दुनिया के बाहर यह आपका पहला कदम है। दोनों में क्‍या भिन्‍नता है और वहां की कौन सी सीख आप यहां अमल में लाएंगे

मैंने हमेशा से खुद को एक मार्केटर के रूप में माना है। जब मैं ‘J. Walter Thompson’ और ‘FCB Ulka’ के साथ काम करता था, तब भी मेरा यही मानना था। इसके अलावा मैंने हमेशा अपने सभी क्‍लाइंट्स को मार्केटिंग सॉल्‍यूशंस दिए हैं। टाइम्‍स ऑफ इंडियाके साथ खास बात यह है कि यह समय व परिस्थितियों के अनुसार परिवर्तनशील है। आप इस प्रॉडक्‍ट में जरूरत के अनुसार बदलाव कर सकते हैं और यह मार्केटिंग स्‍ट्रेटजी का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है। इसमें कई सारे एलीमेंट्स मिलकर काम करते हैं और सभी काफी पॉवरफुल हैं। इसलिए मेरे हिसाब से यह सबसे अच्‍छा मार्केटिंग जॉब है।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

पोल

'कॉमेडी नाइट विद कपिल शर्मा' शो आपको कैसा लगता है?

बहुत अच्छा

ठीक-ठाक

अब पहले जैसा अच्छा नहीं लगता

Copyright © 2017 samachar4media.com