जानें, मारे गए पत्रकारों के परिजनों को केंद्र-राज्य सरकार से मुआवजे पर क्या बोले मोदी के मंत्री...

Wednesday, 12 April, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। साल 2014-15 में देश के विभिन्न हिस्सों में पत्रकारों पर हमलें की 142 घटनाएं सामने आर्इं हैं। यह जानकारी केंद्र सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में दी। साथ ही सरकार ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि पत्रकारों पर हमलें को लेकर अलग कानून बनाने की उसकी कोई योजना नहीं है और मौजूदा कानून पर्याप्त हैं। दरअसल, सदन में प्रश्नकाल के दौरान कई सदस्यों ने पत्रकारों पर हो रहे हमले के मुद्दे को उठाया और सरकार से इस संबंध में अलग कानून बनाने की जरूरत पर जोर दिया, लेकिन इस मामले में गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने कहा कि पत्रकार या किसी विशेष व्यवसाय के लोगों की सुरक्षा के लिए अलग कानून बनाने का उसका कोई विचार नहीं है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों समेत सभी नागरिकों की सुरक्षा के लिए देश में मौजूदा विद्यमान कानून पर्याप्त हैं। उन्होंने यह जानकारी दी कि पत्रकारों के मामले में भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) के माध्यम से शिकायतों पर संज्ञान लिया जाता है। मंत्री ने बताया कि पीसीआई की एक उप-समिति ने गृह मंत्रालय को इस संबंध में कुछ सिफारिशें भेजी थीं लेकिन अभी तक हमने उन्हें स्वीकार नहीं किया है। अहीर ने कहा कि पुलिस और कानून व्यवस्था राज्य का विषय है और पत्रकारों को सुरक्षा प्रदान करना राज्यों की जिम्मेदारी है। केंद्र उसमें हस्तक्षेप नहीं करता। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने यह भी कहा कि हमलें में मारे गए पत्रकारों के परिवार वालों को केंद्र या राज्य सरकार द्वारा मुआवजे का कोई प्रावधान नहीं है। पत्रकार जिस संस्थान में कार्यरत होते हैं, वो ही मुआवजा देते हैं। मंत्री ने बताया कि साल 2014-15 में देश के विभिन्न हिस्सों में पत्रकारों पर हमलें की 142 घटनाएं सामने आर्इं हैं, जिनमें से 114 घटनाएं साल 2014 में हुईं हैं। इस मामले में 32 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि साल 2015 में 28 ऐसी घटनाएं घटीं जिनमें 41 लोगों को गिरफ्तार किया गया। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

पोल

'कॉमेडी नाइट विद कपिल शर्मा' शो आपको कैसा लगता है?

बहुत अच्छा

ठीक-ठाक

अब पहले जैसा अच्छा नहीं लगता

Copyright © 2017 samachar4media.com