OMG! इस पत्रकार की मौत की वजह सुनकर चौंक जाएंगे आप...

OMG! इस पत्रकार की मौत की वजह सुनकर चौंक जाएंगे आप...

Friday, 06 October, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

मीडिया में वर्कप्रेशर इतना अधिक होता है कि कई बार तो लगातार शिफ्टों में कुछ दिनों तक काम करना पड़ जाता है। लेकिन इस वजह से किसी की मौत हो जाए, यह सुनकर शायद आप चौंक जाएंगे। दरअसल, ऐसा ही चौंकाने वाला एक मामला सामने आया है जापान से, जहां लगातार काम करने और छुट्टी नहीं मिलने के कारण एक महिला पत्रकार की मौत हो गई।

युवा महिला पत्रकार मिवा सादो जापान की सरकारी प्रसारण संस्था एनएचके में पॉलिटिकल रिपोर्टर थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 31 वर्षीय मिवा की मौत जुलाई, 2013 में हार्ट अटैक से हो गई थी, लेकिन उनकी संस्था ने इसी हफ्ते उनके केस को सार्वजनिक किया है।

एक महीने में उसे सिर्फ दो दिन की ही छुट्टी दी गई थी। इतना ही नहीं पूरे महीने में उसने करीब 159 घंटे ओवरटाइम भी किया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जापान नेशनल हेल्थ सर्विस की ओर से मामले में की गई जांच में मिवा सादो की मौत की वजह ओवर टाइम सामने आई है। रिपोर्ट में कहा गया कि 31 वर्षीय मिवा की मौत कारोशी यानी अधिक काम करने के चलते हुई है। मिवा ने 30 दिन में सिर्फ दो दिन की छुट्टी ली थी। वो अपने चैनल की ओर से लोकल इलेक्शन कवर कर रही थीं। इसके तीन दिन बाद ही उसकी हार्ट अटैक से मौत हो गई।

चैनल के एक अधिकारी मासाहिको यामौची ने बताया कि मिवा की मौत उनकी संस्था की समस्याओं को उजागर करने वाली है। इससे लेबर सिस्टम के बारे में पता चलता है और यह बात सामने आई है कि यहां कैसे चुनावों की कवरेज की जाती है।

गौरतलब है कि इससे पहले भी जापान में ओवरटाइम के कारण देंत्सु विज्ञापन एजेंसी में काम करने वाले मत्सुरी तकाहाशी ने अप्रैल, 2015 में आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में श्रम विभाग ने पिछले साल जांच रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें ओवरटाइम को खुदकशी की वजह बताया गया था। इस घटना के बाद जापान में ज्यादा समय तक काम करने को लेकर बहस छिड़ गई थी। सरकार ने प्रति माह ओवरटाइम की सीमा 100 घंटे तक सीमित करने का प्रस्ताव रखा है। इससे ज्यादा होने पर संबंधित कंपनी पर जुर्माना लगाने की बात भी कही गई है।

वहीं एक सर्वे के मुताबिक जापान में 20 प्रतिशत वर्कफोर्स पर कारोशी के चलते मौत का खतरा है, यहां ज्यादातर लोग 80 घंटे से अधिक तक का ओवरटाइम करते हैं।

 



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com