राष्ट्रपति की पत्नी पर खबर लिखना एक पत्रकार को पड़ा महंगा...

राष्ट्रपति की पत्नी पर खबर लिखना एक पत्रकार को पड़ा महंगा...

Thursday, 05 October, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

राष्ट्रपति की पत्नी पर लेख लिखना एक पत्रकार को इस कदर महंगा पड़ गया कि पुलिस ने उसे गिरफ्तार तक कर लिया। दरअसल मामला जिम्बाब्वे का है, जहां एक पत्रकार पर आरोप है कि उसने अपनी एक खबर में ये दावा किया था कि राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे की पत्नी ने अपने समर्थकों को खुद के इस्तेमाल वाला अंडरवियर दान में दिया।

इस पत्रकार का नाम है केन्नेथ न्यानगनी है और वे जिम्बाब्वे के ‘न्यूजडे’ (NewsDay) अखबार में कार्यरत हैं। जिम्बाब्वे लॉयर्स फॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक, सोमवार को कथित रूप से एक खबर लिखने और पब्लिश करने के कारण न्यानगनी को गिरफ्तार किया गया। उन्हें मुतारे के पूर्वी शहर से हिरासत में लिया गया है।  इस खबर में ये दावा किया गया था कि जिम्बाब्वे की प्रथम महिला ग्रेस मुगाबे ने अपने कुछ इस्तेमाल किए हुए अंडरगार्मेंट्स को दान में दिया था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, न्यानगनी को आपराधिक मानहानि का सामना करना पड़ सकता है। सोमवार को न्यूजडे ने रिपोर्ट दी थी कि सत्तारूढ़ ज़ानू-पीएफ के सांसद एसाउ मुप्फुमी ने पार्टी के समर्थकों को कुछ कपड़े दिए थेजो ग्रेस मुगाबे द्वारा दान किए गए थे।

न्यूजडे ने मुप्फुमी के हवाले से कहा, ' मैंने प्रथम महिला ग्रेस मुगाबे से मुलाकात की। उन्होंने मुझे ये कपड़े दिए ताकि मैं ये आपको दे सकूं। मेरे पास अंडरगार्मेंट्स भी हैं। मुझे बताया गया है कि आपमें से अधिकतर के पास अंडरगार्मेंट्स सही स्थिति में नहीं हैं। आइए यहां से लीजिए। मेरे पास नाइट ड्रेससैंडल्स और कपड़े हैं। ये सब प्रथम महिला ग्रेस मुगाबे की ओर से हैं।'

गौरतलब है कि जिम्बाब्वे की बिगड़ती आर्थिक स्थिति की वजह से कई लोगों को इस्तेमाल किए हुए कपड़े खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ता है क्योंकि वो उन्हें अधिक किफायती लगता है।

बता दें 2015 में एक बार इस्तेमाल किए हुए कपड़ों की बिक्री पर रोक लगा दी थी लेकिन बाद में ये बैन हटा लिया गया।



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 



पोल

गौरी लंकेश की हत्या के बाद आयोजित विरोधसभा के मंच पर नेताओ का आना क्या ठीक है?

हां

नहीं

पता नहीं

Copyright © 2017 samachar4media.com