विचार मंच न्यूज़

‘राजनीतिक दलों को ‘सार्वजनिक संस्थान’ (पब्लिक अथारिटी) नहीं मानना सबसे बड़ा ढोंग है। सरकारी विभागों से भी ज्यादा सार्वजनिक कोई है तो ये राजनीतिक दल हैं। इनकी वित्तीय स्थिति ही नहीं, इनकी आंतरिक बहस, निर्णय और उसकी प्रक्रियाएं भी सार्वजनिक की जानी चाहिए।’ दैनिक अखबार ‘नया इंडिया’ में प्रकाशित अपने अपने आलेख के जरिए ये कहना है वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वे

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


‘प्याज की मंहगाई की वजह से कुछ साल पहले कई पार्टी राज्यों के चुनाव में हार गई थी लेकिन नरेंद्र मोदी की सरकार को कोई खास डर नहीं है, क्योंकि चुनाव अभी चार साल दूर हैं। इसीलिए हफ्तों से चल रही इस लूट-पाट के बावजूद यह 56 इंच की सरकार 500 इंच की रजाई तानकार सो रही है।’ दैनिक अखबार ‘नया इंडिया’ में प्रकाशित अपने अपने आलेख के जरिए ये कहना है वरिष्ठ प

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


समाचार4मीडिया ब्यूरो आज सुबह से ही अखबार और चैनलों पर मीडिया टायटून रहे पीटर मुखर्जी की दूसरी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी की गिरफ्तारी और उसके बाद इस मामले में हुए नया खुलासा चर्चा में है। जिस तरह पहले उनकी छोटी बहन बताई जा रही शीना बोरा असलियत में उनकी बेटी निकली, उसके बाद से खबर हर आमजन के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है। ऐसे में न

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


हाल ही में प्रदर्शित फिल्म मांझी-द माउंटेनमैन की कई समीक्षाएं आपने पढ़ी होगी, पर वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार प्रियदर्शन ने अपने अंदाज में कुछ इस तरह मांझी फिल्म पर अपनी राय दी है। आप उनकी राय पर अपनी बात कॉमेंट के जरिए कह सकते हैं। तो पढ़िए मांझी पर क्या कहती है प्रियदर्शन की कलम... 1971 के चुनावों में कांग्रेस का चुनाव चिह्न ग

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


वरिष्ठ टीवी पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी अक्सर मीडिया के मुद्दे पर अपनी कलम चलाते हैं। वे मीडिया की आलोचना से लेकर उसके आत्ममंथन तक पर बेबाकी से लिखते रहे हैं। हाल ही देस के 68वें स्वाधीनता दिवस के मौके पर उन्होंने अपने एक लेख के जरिए मीडिया के 68 सालों के सफरनामा का जिक्र करते हुए उसके बदलाव और कोर्पोरेट घरानों की इसमें संलिप्तता

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


भारत और पाकिस्तान के बीच NSA स्तर की बातचीत से पहले पाकिस्तान हुर्रियत नेताओं से मुलाकात पर अड़ा हुआ है, वहीं पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देते हुए भारत ने कहा कि हुर्रियत से पाकिस्तान के NSA की मुलाकात उसे मंजूर नहीं है और ऐसी शर्तों पर बात आगे नहीं बढ़ सकती। इसी संदर्भ में वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक का एक आलेख दैनिक अखबार ‘नया इंडिया’ में प

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


‘कहा जाता है की मीडिया की ताकत का कोई मुकाबला नहीं है। मीडिया की ताकत ने देशों के तख्ते पलट दिए है, अनेक आंदोलनों को उनके मुकाम तक पहुचाया है। अनेक सरकारी योजनाओं को सफल बनाया है। अब समय आ गया है की मीडिया अपनी उस ताकत को पहचाने और देश और समाज को सही सोच के साथ सकारत्मक दिशा में आगे ले जाए।’ हिंदी वेबसाइट ‘दैनिक जागरण’ में छपे अपने ब्लॉग के जरिए ये

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


<strong> <div align="justify">संदीप कुमार श्रीवास्तव</strong> ABP NEWS ने एक नया प्रोग्राम शुरू किया है 'प्रेस कॉन्फ्रेंस', इस प्रोग्राम के पहले एपिसोड में जहां AAP (आम आदमी पार्टी) के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल थे, दूसरे एपिसोड में अपने बयानों को लेकर विवादों में रहने वाले AIMIM (आल इंडिया मजलिस-ए- इत्तेहादुल मुसलमीन) के नेत

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


विष्णु नागर आजकल हम जैसे लेखकों का या तो हम खुद या दूसरे हमारा परिचय देते और छापते हुए बताते हैं कि ये फिलहाल ‘स्वतंत्र लेखन’ कर रहे हैं। मुझे अपने को और दूसरों को ‘स्वतंत्र लेखक’ कहे जाने से सबसे ज्यादा एतराज इस कारण है क्योंकि मेरे जैसे तमाम लेखकों ने कोई न कोई नौकरी करते हुए भी जो लेखन किया है, वह भी ‘स्व

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


<strong>समाचार4मीडिया ब्यूरो</strong> <div align="justify">वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेद प्रताप वैदिक हिंदी दैनिक 'नया इंडिया' में प्रकाशित होने वाले अपने दैनिक कॉलम में जहां देश के नेताओं पर जमकर प्रहार करते हैं, वहीं कई बार उन्हें क्या करना चाहिए और कैसे करना चाहिए, का भी पाठ पढ़ाने से नहीं भूलते हैं। पर सोमवार को प्रकाशित कॉलम में डॉ. वैदिक ने सपा सुप

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


समाचार4मीडिया ब्यूरो हम मीडिया के बारे में जब बात करते हैं, तो अक्सर बोलते हैं कि फलां पत्रकार तो अपने आप में ब्रैंड है। कोई अमुक चैनल अपनी ‘ब्रैंडिंग’ करने में अव्वल है आदि आदि। यानी ब्रैंडिंग की इस दुनिया में हम इसके महत्व को बहुत ज्यादा मानते हैं। पर पत्रकारिता में ब्रैंडिंग के इस कॉन्सेप्ट पर अंग्रेजी अखबार ‘वॉशिंग्टन पोस्‍ट’ ने एक लेख प्

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


'जिस तेजी से समाज में धार्मिक चैनल बढ़े, उसी तेजी से समाज में अपराध का ग्राफ बढ़ा। आखिर इन चैनलों पर आए हुए संत-महात्माओं ने किसे प्रेरित किया? साधुओं की भी जमातें हो गईं। एक बड़ा तबका राजनीतिक साधुओं के रूप में जाना जाने लगा, जिनमें कुछ कांग्रेस के हो गए और कुछ भारतीय जनता पार्टी के हो गए।' हिंदी साप्ताहिक अखबार चौथी दुनिया में अपने आलेख के जरिए ये क

समाचार4मीडिया ब्यूरो 8 years ago


प्रतिभावान नाट्य निर्देशक आलोक चटर्जी के मध्य प्रदेश नाट्य विद्यालय की कमान....

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2023 years ago


आमतौर पर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को ‘एक देश में एक निशान, एक विधान...

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2023 years ago


आमतौर पर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को ‘एक देश में एक निशान, एक विधान...

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2023 years ago


पत्रकार को सामाजिक सरोकार की दुहाई देने वाले तमाम मिल जाएंगे...

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2023 years ago